https://hindeeka.com/when-is-nri-day-celebrated/(opens in a new tab)

प्रवासी दिवस और महात्मा गांधी में क्या संबंध है Non Resident Indian Day

प्रवासी भारतीय दिवस Non Resident Indian Day

https://hindeeka.com/when-is-nri-day-celebrated/(opens in a new tab)

कब मनाया जाता है प्रवासी भारतीय दिवस ? साल के शुरुवाती दिनों में यानि 9 जनवरी के दिन हर साल प्रवासी भारतीय दिवस Non Resident Indian दिवस मनाया जाता है। इसकी शुरुवात साल 2003 में हुई थी, ये दिन ना सिर्फ भारत में बल्कि विदेशों में भी अलग-अलग जगहों पर मनाया जाता है जैसे साल 2018 में सिंगापूर में इस दिन को मनाया गया था वहीं साल 2019 में इस दिन को भारत के वाराणसी में मनाया गया था।

इस दिवस को मनाने का उद्देश्य है की, विश्व भर में वो भारतीय जिन्होने अपनी सूझ-बुझ और अपनी कड़ी मेहनत से अपने-अपने क्षेत्रों में ना सिर्फ अपना नाम रोशन किया बल्कि साथ-साथ उन्होने भारत का भी नाम रोशन किया है। उनको एक मंच पर इकट्ठा किया जाए और उनको सम्मानित किया जाए। प्रवासी दिवस 3 दिनों तक चलने वाला एक सम्मेलन है जो भारत सरकार द्वारा आयोजित किया जाता है।

9 जनवरी को क्यों मनाया जाता है प्रवासी दिवस

https://hindeeka.com/when-is-nri-day-celebrated/(opens in a new tab)

आप सोच रहे होंगे की 9 जनवरी के दिन ही आखिर प्रवासी दिवस क्यों मनाया जाता है? तो उसके पीछे भी एक बहुत बड़ी एतिहासिक घटना है और वो ये की 9 जनवरी सन 1915 के दिन ही महात्मा गांधी दक्षिण अफ्रीका से भारत लौटे थे। वो भारत लौटे ही स्वतन्त्रता संग्राम में जुट गए, गांधी जी के व्यक्तित्व के बारे में ऐसा कौन सा भारतीय होगा जो नहीं जानता होगा ?

अहिंसा को अपना हथियार बनाकर उन्होने अंग्रेजों से शांति पूर्वक लड़ाइयाँ लड़ीं कई अनशन किया कई बार उनको जेल भी जाना पड़ा, उनके साथ कई देशप्रेमियों ने शहादतें दीं और देश को एक लंबी लड़ाई के बाद आज़ाद करवाने में वो सब सफल हुए। यही वजह है की, 9 जनवरी के दीं ही प्रवासी भारतीय दिवस Non Resident Indian मनाया जाता है।

प्रवासी भारतीय और हमारी अर्थव्यवस्था

एक अनुमान के अनुसार लगभग 1,34,59,195 प्रवासी भारतीय हैं जिनसे देश को अपनी GDP की लगभग 3 से 4 % विदेशी मुद्रा प्राप्त होती है। जिनसे देश की अर्थव्यवस्था को एक बहुत बड़ा सहारा मिल जाता है। विश्व बैंक की एक रिपोर्ट के अनुसार साल 2018 में प्रवासी भारतियों ने 79 बिलियन डॉलर की भारी भरकम रकम भारत भेजी, जिससे देश की अर्थव्यवस्था को एक मजबूती मिली।

प्रवासी दिवस मनाने के क्या उद्देश्य हैं

प्रवासी दिवस मनाने के उद्देश्य बिलकुल साफ हैं, इस दिन विश्व भर से उन प्रवासी भारतियों को आमंत्रित किया जाता है, जिन्होने ना सिर्फ अपनी ज़िंदगी में बदलाव लाया साथ ही अपने साथ दूसरों की ज़िंदगी के स्तर को सुधारा है, और सरकार इस आयोजन के माध्यम से ये चाहती है की-

1.प्रवासी भारतीयों की भारत के प्रति सोच, भावना की अभिव्यक्ति, देशवासियों के साथ सकारात्मक बातचीत के लिए एक मंच उपलब्ध कराना. 
2. विश्व के सभी देशों में अप्रवासी भारतीयों का नेटवर्क बनाना. 
3.युवा पीढ़ी को अप्रवासियों से जोड़ना.
4. विदेशों में रह रहे भारतीय श्रमजीवियों की कठिनाइयां जानना और उन्हें दूर करने की कोश‍िश करना. 
4.भारत के प्रति अनिवासियों को आकर्षित करना. 
5.निवेश के अवसर को बढ़ाना.


















Leave a Reply

Your email address will not be published.