sobrono-isaac-bari-8-years-old-proffessor-bioigraphy-in-hindi

soborono Issac bari 8 years old proffessor bioigraphy in hindi

वैसे तो दुनिया में बहुत अजूबों की भरमार है मगर आज जिस अजूबे के बारे में हम बात करने वाले है उसके कारनामे किसी को भी चकित कर सकते हैं जी हाँ आज हम बात करने वाले है दुनिया के सबसे छोटे प्रोफेसर सब्रोनो इसाक बारी Soborono Issac Bari के बारे में आप यक़ीनन चौंक गए होंगे की भला 8 साल का छोटा सा बच्चा कैसे प्रोफेसर बन सकता है मगर चौंकिए नहीं क्योंकि ये सच है जिस उम्र में बच्चे मुश्किल से पढ़ पाते हैं उस उम्र में सब्रोनो इसाक बारी Soborono Issac Bari न सिर्फ पढ़ सकताहै बल्कि वो अपनी उम्र से कई साल बड़ों को पढ़ाता भी है

जितना रोमांच आपको पढ़कर आ रहा है सबोर्नो के बारे में उतना ही मुझे लिखकर आ रहा है आइये पता करें साथ मिलकर की कौन है सबोर्नो और कैसी है उसकी ज़िन्दगी 

सब्रोनो इसाक बारी कौन है

sobrono-isaac-bari-8-years-old-proffessor-bioigraphy-in-hindi

इतनी काम उम्र में जब बच्चे पढ़ भी नहीं पाते सही तरीके से उस उम्र में सब्रोनो इसाक बारी Soborono Issac bari णित, फिजिक्स और केमिस्ट्री के जटिल से जटिल सवालो को बड़ी आसानी से हल कर लेता है ना सिर्फ हल करता है बल्कि अपने से कई साल बड़े विद्यार्थियों को पढ़ाता भी है 

सब्रोनो दुनिया का सबसे काम उम्र का प्रोफेसर कहा जाता है उसे इस युग का Einstein भी कहा जाता है, सब्रोनो का जन्म एक अमेरिकी बंगाली मुस्लिम परिवार में 9 अप्रैल 2012 में बंगलादेश मे हुआ था उनके पिता का नाम राशिदुल बारी है जो की खुद भी एक गणित के अध्यापक है और ब्रोंक्स कम्युनिटी कॉलेज में कार्यरत है  उनकी माता का नाम शाहिदा बारी है सबोर्नो का एक बड़ा भाई भी है उसका नाम रेफथ अल्बर्ट बारी है

उनके पिता नौकरी के सिलसिले में बंगलादेश से अमेरिका में आके बस गए थे और उन्होंने वहां गणित के अध्यापक के तौर पर काम करना शुरू कर दिया उनकी माता घर परिवार के देखभाल करती हैं

सब्रोनो इसाक बारी एक नज़र में 
नाम सब्रोनो इसाक बारी
जन्म 9 अप्रैल 2012
पिता राशिदुल बारी
माता शाहिदा बारी
धर्म इस्लाम
नागरिकता अमेरिका
पुरस्कार Global Child Prodigy Award

सब्रोनो इसाक बारी की पढाई लिखाई

सब्रोनो के पिता बांग्लादेश से अमेरिका आ गए वो न्यूयोर्क शहर में गणित के प्रोफेसर के तौर पर काम करने लगे उन्होंने सब्रोनो को न्यूयोर्क के ही एक स्कूल में दाखिला दिलवा दिया 

जब सबोर्नो महज़ 6 महीने का एक नवजात शिशु था अब उसने बात करना शुरू कर दिया था और जब वो 2 साल का था तब तो उसने गणित और फिजिक्स के सवालों को हल करना षुरू कर दिया था जैसे उसे पास वक़्त काम हो और काम बहुत करना हो इसलिए वो इस छोटी से उम्र से ही बात करना और उन सवालों को हल करना शुरू कर दिया जब बच्चे ठीक से बात भी नहीं कर पाते इसलिए सबोर्नो को इस योग का Einstein कहा जाता है

सबोर्नो को ‘Global Child Prodigy Award’ से भी नवाज़ा जा चूका है साल 2020 में जनवरी के महीने में ये अवार्ड उनको नोबल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी के हाथों मिला था जब सब्रोनो 4 साल के थे तब उनको तत्कालीन अमरीका के प्रेजिडेंट बराक ओबामा ने Letter of Recognition दिया था

आप सब्रोनो इसाक बारी की जीवनी हमारे youtube चैनल पर भी देख सकते हैं

 

 

ऐसी रोचक जीवनी पढ़ने के लिए यहाँ क्लीक करें 

 

सबोर्नो हॉवर्ड यूनिवर्सिटी में

हॉवर्ड यूनिवर्सिटी में 50000 आवेदनों में केवल 2000 ही स्वीकार किये जाते हैं और ऐसे में जब आप को वहां बुलाया गया हो तो ये बहुत बड़ी बात होती है और तब ये उससे भी बड़ी और अविश्वसनीय बात हो जाती है जब आप की उम्र महज़ 6 साल की हो

सबोर्नो का वहां इंटरविव ब्रोनक्स कम्युनिटी कॉलेज के अध्यक्ष थॉमस इसेकेनेगबे ने लिया था सबोर्नो को इसके लिए पत्र हारवर्ड के कुलपति डॉ लुईस रिचर्डसन ने लिखा था

 

क्या आप जानते हैं नेता सुभाष चंद्र बोस को किसने दिए करोड़ रूपये

 

सब्रोनो बारी का सब्रोनो इसाक बरी बनाना

जब सब्रोनो सिर्फ 2 साल के थे तब से ही उनमने कुछ अलग था वो एक जिज्ञासु और सिखाई हुई बातों को बहुत जल्दी सिख लिया करने की क्षमता के धनी बच्चे थे उनके मात पिता ने देखा की वो गणित और फिजिक्स केमिस्ट्री के सवालों को 2 साल की उम्र में हिओहलकार लेते हैं तो उन्होंने सब्रोनो का वीडियो बना कर सोशल मीडिया में डालना शुरू कर दिया धीरे धीरे ये वायरल होने लगी उनकी वीडियो 

फिर वहां ये न्यूयोर्क की लोकल मीडिया की नज़र इस विडिओ पर पड़ी उसके बाद इंटरविव चलने लगे वहां सब्रोनो के उसके बाद Voice of America में सब्रोनो का एक इंटरविव चला सब्रोनो Voice of America में सबसे छोटे उम्र के व्यक्ति बन गए जिनका वहां इंटरविव चला जिसके बाद दुनिया ने जाना इस विलक्षण प्रतिभा के बच्चे के बारे में 

इसके बाद सब्रोनो के परिवार को एक सन्देश में आग्रह किया गया था की Issac Newton के नाम की तरह वो भी अपने बच्चे के नाम में Issac शब्द का इस्तेमाल करें उसके बाद सब्रोनो बारी बन गया सब्रोनो इसाक बारी Soborono Issac bari

किसको दिया जाता है Global Child Prodigy Award

ग्लोबल चाइल्ड प्रोडिजी अवार्ड दुनिया भर में बच्चों के अंदर विलक्षण प्रतिभाओं की खोज और उनका सम्मान करने वाली एक संस्था है ये अवार्ड उन बच्चों को दिया जाता है जो अपनी उम्र से बढ़कर कोई काम किया करते हैं या उसमें विशेष रूचि रखते हैं

 

 

कैसी लगी आपको हमारी ये जानकारी अगर आपके पास हमारे लिए कोई सुझाव है तो हमें ज़रूर कमेंट करके बताएं !

आप अगर लिखना चाहते हैं हमारे ब्लॉग पर तो आपका स्वागत है

हमसे जुड़े : Facebook | Telegram | Instagram

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.