world-blood-donor-day-2021-kab-aur-kyon-manaya-jata-hai

World Blood Donor Day 2021: kab aur kyon manaya jata hai

हम सब जानते हैं की खून हमरे शरीर के लिए कितना ज़रूरी होता है और इसकी कमी अगर हो जाये किसी कारण हमारे शरीरी में तो हमें कितनी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है कई मामलों में तो इंसान की मृत्यु तक हो जाता है इस कमी को पूरा करते हैं रक्तदाता Blood Donar या ज़रूरी हो जाता है की किसी को खून देकर उसकी जान बचने वाले फरिश्तों का सम्मान किया जाये और दूसरे लोगों को भो प्रेरित किया जाये की वो भी रक्तदान करें इसी को बढ़ावा देने के लिए 14 जून के दिन विश्व रक्तदाता दिवस World Blood Donar Day मनाया जाता है

14 जून को क्यों मनाया जाता है रक्तदाता दिवस World Blood Donar Day

ABO ब्लड ग्रुप का पता लगाने वाले साइंटिस्ट का जन्म 14 जून 1868 विएना ऑस्ट्रेलिया में हुआ था उनका नाम था कार्ल लैंडस्टेनर Karl Landsteiner इन्होने ने इंसानी जिस्म में मौजूद खून का कौन सा ग्रुप है इसका पता लगाया था इनकी ही याद और उनको सम्मान देने के लिए हर साल 14 जून के दिन विश्व रक्तदाता दिवस World Blood Donar Day मनाया जाता है जब तक कार्ल ने खून के अलग अलग ग्रुप का पता नहीं लगाया था तब तक अगर किसी को खून की ज़रूरत होती तो किसी भी इंसान का खून किसी को भी चढ़ा दिया जाता था कार्ल लैंडस्टेनर Karl Landsteiner की इस महत्वपूर्ण खोज के लिए उनको साल 1930 में नोबल पुरस्कार से सम्मानित भी किया गया था  

इंसानों को चढ़ाया जाता था जानवरों का खून

जब तक कार्ल लैंडस्टेनर ने इस बात का पता नहीं लगा लिया था की अलग अलग इंसानों में अलग अलग किस्म का खून पाया जयते हैए तब तक इंसानो को इंसान तो क्या किसी जानवर का भी खून चढ़ा दिया जाता था जिसके कारण लोगों की असमय मृत्यु हो जाया करती थी पहले ज़मानों में ऐसा माना जाता था की दुनिया में सिर्फ दो किस्म के खून होते हैं एक तो अच्छे आदमी का अच्छा खून और दूसरे बुरे आदमी का बुरा खून

कार्ल लैंडस्टेनर Karl Landsteiner को इस बात पर शक था वो अपनी खोज में जुटे रहे अपनी खोज के परिणाम ने उन्होंने ये पाया की अलग अलग इंसान के जिस्म में अलग अलग तरह का खून होता है जिसकी बनावट बिलकुल अलग होती है उन्होंने विएना के एक हॉस्पिटल से कई लोगों के खून के सैंपल लिए जिसमें से उन्होंने ब्लड के सीरम को ब्लड के RBC से अलग किया जिससे उनको पता चला की एक इंसान का खून दूसरे इंसान से अलग होता है

क्या महत्व है विश्व रक्तदाता दिवस मनाने का

जैसा की हम जानते हैं की खून की कमी इंसान के लिए बहुत परेशानी का कारण साबित हो सकती है ऐसे में रोगी को तुरंत खून की ज़रूरत होती है और ये खून मिलता है किसी ऐसे इंसान से जोकि खून देना चाहता हो और उसका खून भी किसी को देने लायक हो

हर साल लाखों ज़िंदगियाँ खून दान करने वाले रक्तदाताओं की वजह से बचाई जाती हैं उन रक्तदाताओं को सम्मानित करने और दूसरों को भी रक्तदान करने के लिए प्रेरित करने के लिए ही विश्व रक्तदाता दिवस World Blood Donor Day मनाया जाता है कई सामाजिक संस्थाएं हॉस्पिटल इस तरह के कार्यक्रम का आयोजन करती हैं जहाँ इस दिन रक्तदान किया जाता है एवं रक्तदाताओं को सम्मानित किया जाता है 

कैसे मनाया जाता है वर्ल्ड ब्लड डोनर डे

world-blood-donor-day-2021-kab-aur-kyon-manaya-jata-hai

विश्व रक्तदाता दिवस World Blood Donor Day  हर साल एक नए नारे Theam के साथ मनाया जाता है इसको WHO द्वारा संचालित किया जाता है इस दिन रक्त दान के महत्व को दुनिया भर के सामने रखा जाता है जिससे की लोगों को रक्तदान के लिए प्रेरित किया जा सके इसको मनाने के लिए सरकारी और गैर सरकारी संगठन एक साथ मिलकर और अपने अपने स्तर पर काम करती हैं जगह जगह रक्तदान शिविर का आयोजन किया जाता है और रक्तदाताओं को सम्मानित किया जाता है ताकि उससे और भी लोग प्रेरित हो रक्तदान के लिए स्कूल कॉलेजों में विशेष आयोजनों के माध्यम से युवाओं को इसके लिए आगे आने का आह्वान किया जाता है इस दिन World Red Cross Soceity द्वारा विशेष रक्तदान शिवर का आयोजन दुनिया भर में किया जाता है 

वर्ल्ड ब्लड डोनर डे की Theam 2021

हर साल एक अलग नारे Theam के साथ वर्ल्ड ब्लड डोनर डे मनाया जाता है 2021 की Theam है “Give blood and keep the world beating”  इस थीम के जरिया WHO ये चाहता है की दुनिया में खून देने वालों की संख्या बढे और वो लोग जो की खून की कमी से जूझ रहे हैं उनको रहत मिले  

रक्तदान करने के क्या फायदे हैं

पहले ऐसा माना जाता था की अगर किसी ने रक्तदान किया तो उसके स्वास्थ्य पर इसका विपरीत असर पड़ता है आज भी जानकारी के अभाव में लोग ऐसा समझते हैं मगर विशेषज्ञ इस विषय पर अपनी अलग राय रखते हैं उनका कहना है की रक्तदान के बहुत सारे फायदे होते हैं आइये देख लेते हैं रक्तदान करने के क्या क्या फायदे होते हैं

  • वज़न कम होता है रक्तदान करने से
  • आपके शरीर की कैलोरी काम होती है
  • कैंसर का खतरा काम हो जाता है
  • आपके दिल की हालत सुधर जाती है
  • लिवर काम सही तरीके से करने लगता है 

रक्तदान कौन कर सकता है

ऐसे तो बहुत साड़ी अफवाहें हैं फैली हुई जिनको सुनकर लगता है की रक्तदान नहीं करना चाहिए मगर वो सिर्फ और सिर्फ अफवाहें ही हैं अपने स्वास्थ्य शरीर के लिए आपको रक्तदान करना चाहिए इससे ना सिर्फ आप किसी की जान बचाते ही हैं साथ ही साथ आपके शरीर पर भी इसका अच्छा असर पड़ता है जिसकी जानकरी हम ऊपर देख चुके हैं आइये अब द्दीख लेते हैं की कौन कौन रक्तदान क्र सकता हैं

  • ऐसा कोई भी इंसान जिसकी उम्र 18 से लेकर 66 साल तक की हो
  • ऐसा कोई भी इंसान जो स्वस्थ हो
  • ऐसी कोई महिला जो ना स्तनपान करवा रही हो और ना गर्भवती हो
  • ऐसा कोई भी इंसान जिसे कभी HIV की कोई शिकायत नहीं हुई हो
  • ऐसा कोई भी इंसान जिसका वज़न 50 किलो से ज़्यादा और 160 किलो से काम हो

ब्लड ग्रुप कितने प्रकार के होते हैं

इंसान के जिस्म खून होना  तो एक आम बात है मगर क्या कभी आपने सोचा है की ये खून कितने किस्म के होते हैं आएये आज जान लेते हैं की इंसान के जिस्म में मिलने वाला खून कितने प्रकार का होता है 

इंसानी जिस्म में मिलने वाला खून मुख्य रूप से ग्रुप्स में होता है A , B , AB और O इन्हीं में से निगेटिव और पॉजिटिव ग्रौप्स को अलग किया जाता है जैसे A+, A-, B+, B-, AB+, AB- और O-1

कैसे काम हो जाता है खून शरीर में

हमारे शरीर को स्वास्थ्य रहने के लिए बहुत सारी बातों का ध्यान रखना पड़ता है उन्ही में से एक है आयरन हमारे शरीर में आयरन की कमी होने पर हमें बहुत साडी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है आयरन से ही हमारे खून में लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण होता है इन्ही कोशिकाओं का काम होता है हीमोग्लोबिन बनाने का

हीमोग्लोबिन ही हमारे फेफड़ों से ऑक्सीज़न लेकर हमारे खून तक पहुंचता है और इस तरह ऑक्सीज़न हमारे शरीर में फ़ैल जाता है जोकि बहुत ज़रूरी है अगर आयरन नहीं hoga तो हीमोग्लोबिन की कामी हो जायगी और उससे हमारे शरीर में ऑक्सीज़न की मात्रा काम हो जायगी जो की बहुत खतरनाक हो सकता है हीमोग्लोबिन की इसी कमी को एनीमिया कहते हैं

शरीर में खून की कमी के क्या लक्षण होते हैं

आम तौर पर अगर किसी के शरीर में खून की कमी है तो इसकी जाँच  करना बहुत आसान है हमारा शरीर खुद इसके लक्षण दिखने लगता है आइये देख लेते हैं क्या क्या लक्षण होते है शरीर में खून की कमी के 

  • चेहरे का फीका पड़ जाना
  • थकान
  • सांस फूलना
  • अनियंत्रित धड़कने
  • सर में दर्द
  • घबराहट
  • बालों का अचानक झड़ना आदि

खून की कमी या एनीमिया से कैसे बचा जा सकता है

अब आप समझ गए होंगे की खून की कमी या एनीमिया कितना खतरनाक हो सकता है हमारे लिए खासकर इसका शिकार महिलाएं होती हैं एनीमिया से बचा जा सकता है उसके लिए हमें संतुलित आहार और भरपूर डाइट की ज़रूरत होती है साथ ही हमको मांस मछली अंडे किशमिश हरी बिन्स पालक हरी पत्तेदार सब्ज़ियों का सेवन करते रहना चाहिए जिससे हमारे शरीर में आयरन की कमी ना होने पाए

आयरन की कमी को पूरा करने के लिए हमको विटामिन सी का भी सेवन करना चाहिए इसके लिए आप संतरा मौसम्बी अमरुद आंवले का इस्तेमाल करें अपने रोज़ाना के खाने पीने में एक बात का ध्यान देना यहाँ ज़रूरी है की अत्यधिक आयरन भी हमारे शरीर के लिए नुकसानदेह साबित हो सकता है और एनीमिया को पूरी तरह से दूर करने में 6 महीनों का समय भी लग सकता है इसलिए ज़रूरी है की इससे बचा जाये

 

 

कैसी लगी आपको हमारी ये जानकारी अगर आपके पास हमारे लिए कोई सुझाव है तो हमें ज़रूर कमेंट करके बताएं !

आप अगर लिखना चाहते हैं हमारे ब्लॉग पर तो आपका स्वागत है

हमसे जुड़े : Facebook | Telegram | Instagram

 

 

One Comment on “World Blood Donor Day 2021: kab aur kyon manaya jata hai

Leave a Reply

Your email address will not be published.