Ripped jeans kya hai kya hai jeans ka itihaas

ripped-jeans-kya-hai-kya-hai-jeans-ka-itihaas
Ripped Jeans

एक ज़माना था, जब लोग फटे हुए कपडे पहने आपको कहीं नज़र आएं तो आप उसको इस नज़र से देखते थे जैसे वो बेहद गरीब इंसान होगा। और ऐसा था भी भला फाटे हुए कपडे कौन पहनता है ? मगर वक़्त ने एक ऐसी करवट ली की फटी हुई जीन्स यानी Ripped Jeans फैशन बन गई है। ऐसा नहीं की जिनके पास पैसे नहीं है वो ही फटी हुई जीन्स पहनते हैं, हमारे बड़े बड़े फ़िल्मी सितारे भी अब फटी हुई जीन्स पहनते हैं। अब ऐसा तो नहीं है की उनके पास नई जीन्स खरीदने के लिए पैसे नहीं हैं, आपको शायद जानकार हैरानी हो की फटी हुई जेन्स की कीमत कहीं ज़्यादा होती है।

कब से चलन में आयी फटी हुई जीन्स

दौर था सन 1970 के दशक का युवाओं में रूढ़िवादी परम्पराओं को लेकर एक विद्रोह नज़र आ रहा था। जिसको आवाज़ दी उस वक़्त के पॉप स्टार्स ने उनमे से ख़ास तौर पर बीटल नट्स, सेक्स पिस्टल वगैरह ने। वो स्टेज पर अपने गानों और संगीत के ज़रिये समाज और दुनिया से विद्रोह करते नज़र आते, और इस विद्रोही चरित्र को और गहरा करने के लिए उन्होंने फटी हुई Ripped jeans का सहारा लिया। जो उनके चरित्र से मेल खाती थी, धीरे धीरे ये युवाओं में काफी मशहूर हो गई इसकी मांग को देखते हुए जीन्स बनाने वाली कंपनियों ने फटी हुई जीन्स बनानी शुरू कर दी।

कहते हैं ना की, इतिहास हमेशा अपने को दोहराता है ठीक उसी तरह फैशन के ट्रेंड्स ने अपने को दोहराया और पुरानी फैशन की चीज़ें वापस आ गईं जैसे बेलबाटम पेंट्स बड़े बड़े धुप के फैशनेबल चश्में वगैरह। और लौट आई वही फटी हुई जीन्स Ripped jeans 70 के दशक में जीन्स का बाजार उतना बड़ा नहीं था, तो उसको बनाने वाली कंपनियां भी काम थीं। मगर साल 2000 के बाद जैसे जीन्स को नया जीवन मिल गया हर एक के पास अब जीन्स की कलेक्शन थी। फटी हुई जीन्स भी लोग बड़े शौक से पहनने लगे क्या फ़िल्मी सितारे हों मॉडल्स हो या आम लड़के लडकियां।

कैसे बनाई जाती है Ripped jeans

ripped-jeans-kya-hai-kya-hai-jeans-ka-itihaas
Jeans

फटी हुई जीन्स या Ripped jeans को देखकर आपके दिमाग में भी ख़्याल ये ज़रूर आया होगा की, आखिर ये फटी हुई जीन्स बनाई किसे जाती है। इसको बनाने के दो तरीके हैं, एक तो ये की जीन्स ली जाती है ऐसा नहीं की पुरानी कोई जीन्स बल्कि नई जीन्स उसको लेज़र की मदद से जिस जगह से फाड़नी हो उस जगह लेज़र लाइट का इस्तेमाल कर बारीकी से फाड़ लिया जाता है, और बन जाती है Ripped jeans.

दूसरा तरीका ये है की जीन्स ली जाती है उसपर उस जगह हांथों से निशान बना दिया जाता है, जहाँ से उसको काटना या फाड़ना हो उसके बाद सधे हुए हाथों से उस जगह कटा जाता है और तैयार हो जाती है दिलकश जीन्स जो आम तौर पर महंगी होती है।

क्या है जीन्स का इतिहास

लड़के हों की लडकियां बुज़ुर्ग हो की जवान आमिर हो की गरीब सबकी पसंद अक्सर जीन्स होती है। इसकी खासियत है की ये पेंट किसी भी कपडे के साथ पहनी जा सकती है, ये सब पर अच्छी लगती है युवाओं में ये खासी पसंद की जाने वाली पेंट है। दुनिया भर में सब से ज़्यादा पहना जाने वाली पेंट है जीन्स।

आपके दिमाग में भी ये बात आई होगी की आखिर जीन्स को बनाया किसने था ? और क्या है इसका इतिहास तो बात कुछ ऐसी है की जीन्स या तो डेमिन या डंगरी के कपडे से बनती है, इसका अविष्कार 1873 में जैकब डेविस और लिवाई स्ट्रॉस ने किया था।

इस पेंट को जीन्स क्यों कहा जाता है इसके पीछे भी एक दिलचस्प कहानी है इटली में एक शहर है जिनोवा यहाँ एक ख़ास किस्म की कपास से एक फैब्रिक बनाया जाता है जिसे जिन कहा जाता है इसी का आगे चलकर नाम जीन्स पड़ा

डेनिम से जीन्स पेंट कैसे बनी

ripped-jeans-kya-hai-kya-hai-jeans-ka-itihaas
LEVI STRAUSS

बात है 1851 की जब लिवाई स्ट्रॉस अपने बड़े भाई जो की कपड़ों का कारोबार करते थे न्यूयोर्क में उनका हाथ बटाने के लिए कारोबार में जर्मनी से आये। वो दौर था जब सोने की खुदाई (Gold Rush) के लिए बहुत सारे लोग पश्चिमी देशों से आ रहे थे, लिवाई स्ट्रॉस अपने कारोबार को बढ़ने के लिए उस वक़्त सेनफ्रांसिस्को चले गए।

जीन्स बनने की कहानी यही से शुरू होती है, उस इलाके में जैकब डेविस नाम का एक दर्ज़ी हुआ करता था, वो टेंट और सामानों को ढकने के लिए कवर की सिलाई का काम करता था। एक दिन उसके पास एक महिला आई वो अपने पति के लिए एक पेंट सिलवाना चाहती थी, उसने जैकब से कहा की वो कोई ऐसी पेंट सिले जो की बहुत मज़बूत हो और जल्दी न फटे।

जैकब ने इस पेंट को डेनिम के मज़बूत कपडे से सिलने का मन बनाया और उसके लिए वो लिवाई स्ट्रॉस के पास गया। वहां से डेनिम का कपडा ले आया उसने पेंट की सिलाई की उसने सोचा की पेंट ज़्यादातर वहां से फटती है, जहाँ से उसमें हाथ डाला जाता है यानी जेब के पास उसने वहां पर ताम्बे की रिपीट लगा दी।

ये तरीका जैकब का काम कर गया दूर दूर से लोग उसके पास आने लगे डेनिम की पेंट सिलवाने के लिए काम बढ़ता देख उसने इसको पेटेंट करने की सोची। जिसके लिए उसको साथ चाहिए था, लिवाई स्ट्रॉस का वो तुरंत उनके पास जा पहुंचा और अपना प्लान उनको बताया। लिवाई ने भी तुरंत हाँ कर दी दोनों हिस्सेदार बन गए और कुछ दिनों बाद उन्होंने एक कारखाना बनाया और वहां जीन्स बनाने का काम शुरू कर दिया इस तरह जीन्स का आविष्कार हुआ।

 

कैसी लगी आपको ये जानकारी हमें ज़रूर बताएं अगर कोई सुझाव हो हमारे लिए तो आप कमेंट करें धन्यवाद!

 

अगर आप हमारे साथ अपने Article साँझा करना चाहते हैं तो आपका स्वागत है !

 

हमसे जुड़े : Facebook | Telegram 

Leave a Reply

Your email address will not be published.