ayushman bharat digital mission

Ayushman Bharat Digital Mission kya hai

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने 27 सितम्बर 2021 के दिन वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के ज़रिये देश को स्वास्थ्य सम्बंधित एक नै सौगात की घोषणा की है जिसका नाम है Ayushaman Bharat Digital Mission जैसा की नाम से समझ आ रहा है इसमें कुछ डिजिटली स्वास्थ्य सम्बंधित बात होगी दरअसल ये के पायलट प्रोजेक्ट का हिस्सा है जिसका ऐलान प्रधानमंत्री ने 15 अगस्त 2020 के दिन अपने भाषण में किया था क्याहै ये आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन और क्या है ये डिजिटल हेल्थ आइडेंटिटी कार्ड Digital Health Identity Card इस आर्टिकल में हम ये जानेंगे

क्या है आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन

नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन NDHM के तहत भारत के नागरिकों को डिजिटली स्वास्थ्य योजनों से सीधे जोड़ने का एक कार्यक्रम है जो आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन Ayushaman Bharat Digital Mission  के जरिये देश में चल रही सभी मेडिकल सुविधाओं और योजनाओं से सभी को लाभ मिल सकेगा

इस योजना में देश के सभी नागरिकों का एक डिजिटल हेल्थ डाटा बेस तैयार किया जायेगा जहाँ उनकी बिमारियों का सारा लेखा जोखा तैयार किया जाएगा जिससे उनतक सरकारी और गैर सरकारी मेडिकल सुविधाओं की पहुँच आसान हो जाएगी इसमें हर एक नागरिक को एक यूनिक मेडिकल आईडी दी जाएगी जैसा की हमारे आधार कार्ड में होता है ये मेडिकल आईडी भी 14 डिजिट की होगी किसी व्यक्ति की सारी मेडिकल हिस्ट्री इस मेडिकल कार्ड में होगी जिसे उस व्यक्ति के इलाज के लिए किसी भी डॉक्टर को ज़्यादा परेशानी नहीं होगी क्योंकि उसकी सारी मेडिकल हिस्ट्री उसके पास होगी इस कार्ड के ज़रिये

कैसे काम करेगा आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन

जैसे हर एक व्यक्ति का एक आधार कार्ड है वैसे है हर एक व्यक्ति का एक डिजिटल हेल्थ आइडेंटिटी कार्ड बनेगा जिसमें उसकी स्वस्थ्य सम्बन्धी सारी जानकारियां होंगी डिजिटल हेल्थ आइडेंटिटी कार्ड किसी व्यक्ति का एक तरह का स्वस्थ्य के क्षेत्र का पहचान पत्र होगा

इस मिशन के शुरुवाती दिनों में आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन सैंडबॉक्स इस प्रोजेक्ट के तमाम टेक्नोलॉजी प्रोडक्ट टेस्टिंग वगैरह का काम करेगा साथ ही ऐसे संगठनों का सहयोग भी करेगा जो इस मिशन के सह जुड़कर आगे काम करना चाहते हैं

हर व्यक्ति का बनेगा डिजिटल हेल्थ आइडेंटिटी कार्ड

इस योजना का लाभ हर एक व्यक्ति एक पहुंचाया जा सके इस लिए ये ज़रूरी है की है एक व्यक्तिका आधार कार्ड के तर्ज़ पर एक डिजिटल हेल्थ आइडेंटिटी कार्ड बने जिससे उस विशेष व्यक्ति की सारी मेडिकल हिस्ट्री को एक जगह इकठ्ठा किया जा सके और जब भिजाररूरत हो डॉक्टर्स उसके इलाज बिना उसकी मेडिकल फाइल देखे बिना कर सकें देश में किसी भी कोने में किसी को कहीं भी अपने साथ अपना मेडिकल फाइल लेकर घूमने की ज़रूरत नहीं होगी

आधार नंबर से मोबाइल नंबर को लिंक कर एक मोबाइल एप्लीकेशन के ज़रिये किसी के पर्सनल हेल्थ रिकॉर्ड को जोड़ा और ज़रूरत पडने पर देखा भी जा सकेगा इसमें Healthcare Profetional Registry और Healthcare Facilities Registry पारम्परिक चिकित्सा और आधुनिक चिकित्सा पद्धति दोनों तरह के मरीज़ों का डेटा इकठा करेंगी

क्या हैं फायदे डिजिटल हेल्थ आइडेंटिटी कार्ड

देश की आबादी लगभग 1अरब 30 करोड़ के आस  पास है उसमें से एक बड़ा हिस्सा मोबाइल इस्तेमाल करता है और लगभग सकबे पास अपना आधार नंबर भी है जैसे हर एक व्यक्ति का अलग मोबाइल नंबर है और एक अलग आधार नंबर है वैसे है इस योजना के आ जाने के बाद सबा के डिजिटल मेडिकल आइडेंटिटी नंबर भी होगा जिससे कई सारे फायदे होंगे ना सिर्फ मरीज़ को बल्कि उनको भी आसानी होगी जो डॉक्टर उसका इलाज करेंगे आइये देख लेते हैं इसके फायदे

  • हर एक व्यक्ति का एक अलग डिजिटल मेडिकल आइडेंटिटी नंबर होगा
  • डिजिटल मेडिकल आइडेंटिटी देश के अस्पतालों के डिजिटल हेल्थ सॉल्यूशंस को एक दूसरे से कनेक्ट करेगा
  • किसी को अपनी मेडिकल हिस्ट्री की फाइल साथ में रखने या उसके खो जाने का डर नहीं होगा
  • इसमें सभी डाटा जैसे मोबाइल नंबर नाम पता और मेडिकल हिस्ट्री पूरी तरह सुरक्षित रहेगी
  • बिना अनुमति के इसमें दर्ज जानकारियों का आदान प्रदान नहीं किया जा सकेगा
  • हर नागरिक के लिए बनी एक हेल्थ आईडी उनके हेल्थ अकाउंट के तौर पर भी काम आएगी
  • अपने पर्सनल हेल्थ रिकॉर्ड को मोबाइल ऐप्लिकेशन की मदद से जोड़ा और देखा जा सकता है.

 

ऐसी अन्य जानकारियों के लिए यहाँ क्लिक करें 

 

कैसे बनाये हेल्थ आईडी

वैसे तो इसके लिए सरकार विशेष शिविर लगाएगी aane वाले दिनों में जिससे वो लोग भी अपनी हेल्थ आईडी  banwaa सकें जो लोग खुद इंटरनेट का इस्तेमाल नहीं कर सकते मगर ऐसा वयक्ति जो इंटरनेट का इस्तेमाल कर सकता हो वो अपनी हेल्थ आईडी खुद बना सकता है उसके लिए  करना ये हैं 

  • sabse पहल आपको NDHM की इस साइट पर जाना होगा https://healthid.ndhm.gov.in/register
  • उसके बाद आपको इस तरह का पेज नज़र आएगा

ayshman bharat digital mission

  • इसके बाद आपको अपना आधार नंबर डालना होगा फिर आगे की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी और बन जायेगा आपका हेल्थ आईडी
  • आपको अपना आधार नंबर दर्ज करना होगा और फिर ओटीपी दर्ज करके सत्यापित करना होगा।
  • यदि आप चाहें, तो आप आधार विवरण प्रदान किए बिना स्वास्थ्य कार्ड बनाना चुन सकते हैं।
  • आप चाहें तो सिर्फ अपना मोबाइल नंबर देकर भी हेल्थ कार्ड बनवा सकते हैं.
  • मोबाइल नंबर देने के बाद आपको उसे ओटीपी के जरिए वेरिफाई करना होगा.
  • आपको कुछ जानकारी प्रदान करनी होगी जिसमें एक फोटो, आपकी जन्म तिथि, आपकी प्रोफ़ाइल का पता शामिल है।
  • आपके सामने एक फॉर्म खुलेगा, जिसमें डिटेल्स भरनी होंगी। सारी जानकारी भरने के बाद आपके सामने एक हेल्थ आईडी कार्ड आएगा, जिसमें आपकी जानकारी, फोटो के साथ-साथ एक  क्यूआर कोड भी होगा।

 

 

कैसी लगी आपको हमारी ये जानकारी अगर आपके पास हमारे लिए कोई सुझाव है तो हमें ज़रूर कमेंट करके बताएं !

 

आप अगर लिखना चाहते हैं हमारे ब्लॉग पर तो आपका स्वागत है

हमसे जुड़े :  Facebook | Telegram | Instagram | LinkedIn

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.