Content kya hai in hindi

content kya hota hai | content writing se paise kaise kamaye

किसी इमारत को बनाने में बहुत सारे सामान की ज़रूरत होती है जैसे ईंट, छड़, सीमेंट आदि ये सब उस इमारत के कंटेंट Content हैं जिनसे मिलकर एक खूबसूरत शक्ल में ढल जाती है कोई भी जगह वैसे ही अगर हम किसी लिखे हुए विषय को ध्यान से देखें तो उसमें भी अलग अलग विषय होते हैं जो लेखक इस्तेमाल करता है अपने पाठक को समझने के लिए इन्ही अलग अलग विषयों को हम कंटेंट कहते हैं और इसको लिखने वाले को कंटेंट राइटर कहाँ जाता है आज हम इस आर्टिकल के ज़रिये बात करेंगे क्या है कंटेंट राइटिंग कैसे इससे पैसे कमाया जा सकता है घर बैठे कितने प्रकार की होती है कंटेंट राइटिंग जानने के लिए आखरी तक पढ़े इन आर्टिकल को

कंटेंट क्या होता है

एक विषय कई सारे छोटे छोटे विषयों से मिलकर बना होता है उन्ही छोटे छोटे विषयों को कंटेंट कहा जाता है आज कल इस शब्द को अक्सर आप सुनते होंगे क्योंकि आज कल का समय है इंटरनेट का और इंटरनेट पर जो भी जानकारियां हमारे लिए उपलब्ध हैं वो कंटेंट के तौर पर ही उपलब्ध है हो सकता है उसका रूप अलग हो मगर हैं वो कंटेंट  Content ही जैसे अगर आप किसी का ब्लॉग पढ़कर कोई जानकारी हासिल करना चाहते हैं तो वो जानकारी आपको लिखित कंटेंट के रूप में मिलेगी और अगर आप कोई जानकारी वीडियो के माध्यम से लेना चाहते हैं तो वो भी कटेंट हैं मगर वीडियो के फॉर्मेट में अब हमारे लिए ये जानना ज़रूरी हो गया है की ये कंटेंट कितने प्रकार के होते हैं

कंटेंट कितने प्रकार के होते हैं

ये जानने के बाद की कंटेंट क्या है ये भी जानना बहुत ज़रूरी है की कंटेंट Content कितने प्रकार के होते है मुख्यतः कंटनेट 4 प्रकार के होते हैं

  • लिखे हुए कंटेंट
  • देखे जाने वाले कंटेंट 
  • सुने जाने वाले कोंटेत्न
  • e-content

आइये इनको विस्तार से समझ लेते हैं

लिखे हुए कंटेंट Written Content

आपको जानकारी चाहिए किसी चीज़ की तो आप सबसे पहले उस विषय के एक्सपर्ट की तलाश करते हैं नहीं तो आजकल सबसे आसान है की जेब में पड़े मोबाइल फ़ोन को निकल कर गूगल से उसका जवाब पूछ लेते हैं गूगल जो जवाब हमने देता है हमारे सवाल के बदले वो किसी के द्वारा लिखित रूप में होता है यानी किसी ब्लॉगर ने उस विषय के बारे में लिख रखा था जिसको गूगल ने हमें दिखाया तो इस तरह के कंटेंट को लिखिए हुए Written Content कहा जाता है

देखे जाने वाले कंटेंट VIsibale Content 

ऐसे बहुत सारे विषय होते हैं जिनको पढ़कर सही तरीके से समझा नहीं जा सकता जैसे अगर आपको वेज बिरयानी खानी हो और आपको वो बनानी नहीं आती हो तो आपके लिए सबसे अच्छा है की आप वेज बिरयानी बनाने की रेसिपी का कोई विडिओ देख लें आप बड़ी आसानी से अपने लिए फिर लजीज़ वेज बिरयानी बना सकेंगे ऐसे कंटेंट को देखे जाने वाले या विडिओ, इमेज कंटेंट कहा जाता है

सुने जाने वाले कंटेंट Audioble Content

इन्सान ऐसा जिव है जो बाकि जीवों से इस लिए अलग है क्योंकि वो जानकारियां इकठ्ठी करता है और उनका उपयोग समय आने पर अपने ज़िन्दगी के लिए करता है मगर आज कल की भाग दौड़ भरी ज़िन्दगी में लोगों के पास समय काम हो गया है वो जानकारियां तो चाहते हैं मगर पढ़ने का या देखने का समय नहीं होता उनके पास कई बार तो वो अपनी जानकारी सुनकर इकट्ठी कर लेते हैं जिसे Podcast कहा जाता है पॉडकास्ट में कंटेंट आवाज़ के ज़रिये मिलते हैं भारत में अभी ये काम चलन में हैं मगर पश्चिमी देशों में इसका चलन तेज़ी से बढ़ रहा है

e-content

समाचार पत्र, पत्रिकाएं किताबें आदि जिनको पढ़कर हम किसी ख़ास विषय की जानकरी प्राप्त करते हैं वो लिखित कंटेंट हैं जो किसी ने लिखे या छापे हैं काग़ज़ पर जिसको हम देख सकते हैं आंखों से और छू सकते हैं मगर जो जानकारियां हमें इंटरनेट के माध्यम से मिलती है ब्लॉग या वीडियो के माध्यम से उसे हम e-content कहते हैं ये ना सिर्फ बाकी दुनियां में बहुत चलन मने है साथ साथ हमारे देश में भी इसका चलन बहुत है पढाई लिखे से लेकर आम जानकारियां सब e-content के माध्यम से उपलब्ध हो जाती हैं

कंटेंट राइटिंग क्या होती है

content kya hota hai

किसी विषय पर ज़रूरत के हिसाब से लिखे गए लेख Article को कंटेंट Content कहा जाता है किसी कंटेंट को लिखने से पहले कुछ तैयारियां करनी पड़ती हैं जैसे उस विषय के बारे में कितनी जानकरी है लिखने वाले को क्या वो उस विषय पर अपनी जानकारी के हिसाब से एक अच्छा कंटेंट लिख सकता है और दूसरी बात ये होती है की हो सकता है उस लिखने वाले को उस विषय में जानकारी काम हो या ना हो तो उस समाय वो क्या रिसर्च कर सकता है उस विषय के बारे में और फिर कंटेंट तैयार कर सकता है इन सब प्रक्रियाओं से गुज़र कर एक कंटेंट तैयार किया जाता है इन सब प्रक्रियाओं को ही कंटेंट राइटिंग कहा जाता है

कंटेंट राइटिंग कितने प्रकार की होती है

सामान्यतः कटेंट राइटिंग दो तरह की होती है एक तो फ्रीलान्स कंटेंट राइटिंग और दूसरा रेगुलर कंटेंट राइटिंग आइये दोनों को कुछ विस्तार से समझ लेते हैं

फ्रीलान्स कंटेंट राइटिंग 

फ्रीलान्स का मतलब होता है ऐसा काम जिसके लिए किसी किस्म के अनुबंध की ज़रूरत नहीं होती ये काम करने वाले किसी के अधीन काम नहीं करते ये अपने घर से किसी के लिए काम करते हैं जब काम खत्म हो जाता है इनको फीस दे दी जाती है उसके बाद इनका उस कंपनी से कोई वास्ता नहीं रह जाता एक तरह के कॉन्ट्रैक्ट पर काम करने को फ्रीलान्स कहाँ जाता है

जहाँ तक बात है फ्रीलान्स कंटेंट राइटिंग की तो ये भी बिना किसी ख़ास ऑफिस गए बिना वक़्त के पाबन्दी के कंटेंट तैयार करके देना होता है किसी क्लाइंट को जिसके बदले में वो फ्रीलांसर को उसकी फीस देता है कंटेंट का विषय काम देने वाले का होता है इसमें समय की सिमा होती है की कितने समय या दिनों मने वो फ्रीलांसर काम करके देगा और उसके बदले में क्या फीस होगी उसकी ये से पहले से तय कर लिए जाता है काम खत्म होने के बाद कंपनी अपन रस्ते फ्रीलांसर अपने रस्ते ये हो सकता है की फिर कभी कम्पनी उसको कोई काम दे मगर ये ज़रूरी भी नहीं

रेगुलर कंटेंट राइटिंग 

ये दूसरी और बहुत प्रचलित किस्म की कंटेंट राइटिंग जॉब है इसमें होता ये है की कंटेंट राइटर को ऑफिस जाना होता है खास समय पर और उसको कंटेंट तैयार करना होता है उसकी सौंपने के लिए जिसने उसे अपॉइंट किया हुआ है और उसकी सैलरी भी वही कंपनी देती है जो निर्धारित होती है महीने के महीने जो उसको मिल जाती है

कंटेंट राइटर कौन होता है

इसका एक आसान सा जवाब है की कंटेंट राइटर वो होता है जो कंटेंट क्रिएट करता है मगर ये इतना आसान नहीं है हर किसी को जैसे पढ़ना अच्छा नहीं लगता वैसे ही हर कोई लिख भी नहीं सकता कंटेंट लिखने के लिए सबसे पहले ये शर्त है की आपको लिखने से प्यार होना चाहिए कसी ख़ास विषय पर आपकी जानकारी अच्छी होनी चाहिए जिसपर आप विस्तार से लिख सकें या तो फिर आप के अंदर खोजी प्रवित्ति होनी चाहिए ऐसे विषय जिनपर आपकी जानकरी काम है उसपर आपको खोज करना पद सकता है एक कंटेंट के लिए कंटेंट राइटर कोई भी बन सकता है इसमें ना उम्र की कोई सिमा है ना लिंग का कोई फ़र्क़ पड़ता है बस उठाइये कागज़ कलम या अपना लेपटॉप और शुरू हो जाइए

कैसे बने कंटेंट राइटर

कंटेंट राइटिंग एक तरह की कला है और किसी भी कला को सीखा जा सकता है मगर सिखने के लिए सबसे पहले आपके अंदर उसको सिखने की इक्छा भी होनी चाहिए जैसे आप पेंटिंग करना चाहते हैं तो आप उसको सिख सकते हैं आप गाना सीखना चाहते हैं तो सिख सकते हैं मगर सबसे पहले आपको सिखने का मन तो हो ऐसे ही लेखन भी एक कला है जिसको आप सिख सकते हैं एक इंटरविव में जावेद अख्तर ने कहा था की

किसी को भी लिखने से पहले पढ़ना चाहिए, वो जितना ज़्यादा पढ़ेगा उठा ही अच्छा लिख सकेगा

तो आपको अगर लेखक बनना है तो आप आज से ही अलग अलग लेखकों की किताबों को पढ़ना शुरू कर दें धीरे धीरे आपके अंदर लिखने की कला आने लगेगी फिर कुछ प्रैक्टिस के बाद अआप भी कंटेंट लिख सकेंगे साथ ही आप जिस भाषा में लिखना चाहते हैं उस भाषा पर आपका पूरा नियंत्रण होना चाहिए उसकी शब्दावली पर विशेष ध्यान दें शब्दों के उच्चारण पर भी

अच्छा कंटेंट कैसे लिखें

किसी को लिखने का शौक है इस लिए वो लिखता है मगर यहाँ पर ये समझने की बात है की क्या है अच्छे कंटेंट में जो होना चाहिए और जो नहीं होता इसके लिए कुछ सुझाव हैं

  • आपके कंटेंट में शुरू से आखरी तक उस विषय पर केंद्रित होना चाहिए जिसपर वो लिखा गया है
  • आपके कंटेंट की भाषा आसान और सरल होनी चाहिए जिससे पढ़ने वाले को कोई परेशानी न हो
  • कंटेंट ऐसा लिखना चहिये जो लोगों को पसंद आये ना की लिखने वाले को पसंद आये
  • कंटेंट के लम्बाई ज़रूरत के हिसाब से होनी चाहिए ऐसा नहीं की लम्बा लिखने के लिए कुछ भी लिखा जाये
  • चरण बद्ध तरीके से एक एक बिंदु पर लिखना चाहिए पढ़ने और समझने में इससे आसानी होती है
  • विषय अगर इजाज़त दे तो कभी कभी मुहावरों का प्रयोग करना चाहिए
  • आम बोल चल की भाषा का इतेमाल होना चाहिए कंटेंट में
कंटेंट राइटिंग में इस्तेमाल होने वाले शब्द

अगर आप एक कंटेंट राइटर हैं तो आप को ये शब्द जानने बहुत ज़रूरी हैं इनका इस्तेमाल अक्सर कंटेंट राइटर और उसको काम देने वाले के बीच होता है

  • PPW
  • SEO
  • Word Count

आइये इनको विस्तार से समझ लेते हैं

PPW

इसका फुल फॉर्म होता है Price Per Word यानी कंटेंट राइटर और कंटेंट लिखवाने वाले के बीच जो फीस का निर्धारण होता है उसमें PPW का इस्तेमाल होता है दोनों के बीच इस बात पर सहमति बनती है की एक शाद लिखने का राइटर को किंतना पैसा मिलेगा आम तौर पर ये 0.25 पैसे से लेकर 0.50 पैसे तक होते हैं

SEO

इसका उपयोग आम तौर पर ब्लॉगर किया करते हैं इसका फुल फॉर्म होता है Search Engine Optimization ये किसी आर्टिकल को सर्च इंजन के हिसाब से लिखने की शैली है जिससे सर्च इंजन को ये पता चल सके की कोई आर्टिकल किस विषय में लिखा गया है और उसको पढ़ने वालों के लिए इसकी क्या उपयोगिता है

 

क्या आप जानते हैं ब्लॉग से पैसे कैसे कमाए जाते हैं 

 

Word Count 

इसको पढ़कर इस समझ आ रहा है की इसमें शब्दों की गिनती की बात है होता हैए है की कोई आर्टिकल कितने शब्दों का होगा ये तय किया जाता है लिखने और लिखवाने वाले के बीच उसी के आधार पर PPW के ज़रिये लिखने वाले की फीस का निर्धारण होता है मान लीजिये कोई आर्टिकल 1000 शब्द का है और उसका PPW 0.20 तो कंटेंट राइटर की फीस उस आर्टिकल के लिए 200/- रूपए होगी

कंटेंट राइटिंग से पैसे कैसे कमाए जाए सकते हैं 

सबसे ज़रूरी यही सवाल है की क्या आपका शौक आपको रोज़गार दिला सकता है अगर हाँ तो आप इस काम में बहुत आगे तक जा सकते हैं क्योंकि आप जिस काम को कर रहे हैं वो आपका काम ही नहीं आपका शौक भी है जिसको करने में आपको मज़ा आता है

ये बात क्या कंटेंट राइटिंग के लिए भी लागु होती है जी हाँ ये बात यहाँ भी लागु होती है आपको लिखें का शौक है और आप लिख भी अच्छा लेते हैं तो आपको आपका ये शौक पैसे भी कमा के दे सकता है बा सापको करना ये है की कुछ साइट्स हैं को फ्रीलांसिंग जॉब ऑफर करती हैं आपको अपना अकाउंट वहां बनाना होगा कुछ साइट्स के नाम ये हैं

  • Freelance India
  • Upwork
  • Fiverr
  • Flexjobs
  • SimplyHired

ये कुछ साइट्स हैं जो ऑनलाइन फ्रीलांसिंग जॉब उपलब्ध करवाती है जहाँ आप को काम मिल सकता है

linkedIn से कैसे कंटेंट राइटिंग के लिए काम लें 

फेसबुक ट्विटर जैसा ही एक सोशल नेटवर्किंग साइट हैं linkedIn मगर इसमें इस बात का ख्याल रखा जाता है की अन्य सोशल साइट्स के जैसे दोस्त रिश्तदारों का इसमें ग्रुप नहीं होता इसमें सिर्फ प्रोफेशनल लोग ही होते हैं जिनसे आप जुड़ सकते हैं आप अपनी योग्यता के अनुसार अपना प्रोफाइल बनाइये आपको जॉब के नए नए अच्छे ऑफर मिल जायेंगे यहाँ

ठीक वैसे ही अगर आप कंटेंट क्रिएटर है और आपको काम की तलाश है तो आपकी तलाश यहाँ ख़त्म हो सकती है ऐसे लोगों ऐसे ग्रुप से जुड़िये जो कटेंट क्रिएशन के फील्ड से जुड़े हुए हैं वो जॉब्स पोस्ट करते रहते हैं आप उनको अप्लाई कीजिये अगर उनको आपकी प्रोफाइल पसंद आती है तोवो आप से फ़ोन या मैसेज के ज़रिये संपर्क करेंगे काम के बदले में उनसे अपनी फीस निर्धारित कर लीजिये और काम खंत होने के बात वो आपको तय की गई आपकी फीस चूका देंगे बैंक ट्रांसफर या UPI के ज़रिये

Facebook में कैसे कंटेंट राइटिंग जॉब तलाश करें

आजका लके समय में शायद कोई ऐसा होगा जो फेसबुक को ना जनता हो मेरी नज़र में ऐसा कोई नहीं है खैर फेसबुक एक सोशल नेटवर्किंग साइट है जहाँ दोस्त रिश्तेदार सब एक दूसरे से जुड़े हुए होते हैं इसमें देशों के सीमाएं भी खत्म कर दी हैं आप्पा भले भारत के किसी सुदूर ग्रामीण अंचल में रहते हों मगर आपकी दोस्ती फेसबुक के ज़रिये न्यूयोर्क में रहने वाले किसी व्यक्ति से हो सकती है इसे ही इसमें फेसबुक पेज होते हैं जहाँ लोग अपने बिज़नेस अपने कारोबार का पेज बनाते हैं

वैसे है लोग कंटेंट राइटिंग के लिए भी कई सारे पेज आपको फेसबुक में मिल जायेंगे आपको बस करना ये है की ऐसे ही किसी ग्रुप को ज्वाइन करना है कुछ ही समाया में आपको ग्रुप का एडमिन अनुमति दे देता यही उस ग्रुप में ज्वाइन होने के लिए फिर आप देखेंगे जिसकी ज़रूरत होती है वो वहां पोस्ट करता है की उसे अमुक काम के लिए कंटेंट राइटर की ज़रूरत है आप उन से सीधे संपर्क कर सकते हैं अपने काम और फीस का निर्धारण कर आप काम शुरू कर सकते हैं

 

 

कैसी लगी आपको हमारी ये जानकारी अगर आपके पास हमारे लिए कोई सुझाव है तो हमें ज़रूर कमेंट करके बताएं !

 

आप अगर लिखना चाहते हैं हमारे ब्लॉग पर तो आपका स्वागत है

हमसे जुड़े :  Facebook | Telegram | Instagram | LinkedIn

 

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.