Hindi Diwas kab manaya jata hai

Hindi Diwas | Kab Manaya jata Hai Hindi Diwas

दोस्तों हम भारतीय हैं और हम अकसर अपनी बातचीत में हिंदी भाषा का इस्तेमाल करते हैं जिसपर हम सबको गर्व है मगर क्या आपने सोचा है की Hindi Diwas कब और क्यों मनाया जाता है अगर आप नहीं जानते तो हम लाए हैं आपके लिए आज पूरी जानकारी की क्यों और कब मनाया जाता है हिंदी दिवस

हम hindeeka में हमेशा येकोशिश करते हैं की कोई अगर किसी सवाल के जवाब के लिए हमारे पास आये तो उस सवाल का सटीक जवाब हम उसको दे सकें इनके लिए हम कड़ी मेहनत करके रिसर्च करते हैं ताकि जो हम तक आये किसी सवाल के जावाब में उसको कहीं और ना जाना पड़े आज हम बात करेंगे हिंदी दिवस की आइये शुरू करते हैं

किसी भी समाज को आपस में जोड़ने के लिए जिस चीज़ की ज़रूरत होती है वो है भाषा, अपनी बात किसी को कहनी हो या किसी की बात सुननी हो उसके लिए आपको भाषा का ज्ञान होना चाहिए  जो कहने वाला भी समझ सके और वो जिससे कह रहा है वो भी समझ सके भारत में ऐसी भाषा है जिसका उपयोग लगभग हर प्रदेश में किया जाता है और लगभग हर एक देश के नागरिक को ये भाषा आती है उसका नाम हिंदी भाषा है यही वजह है की हिंदी को हमारी राष्ट्रीय भाषा का दर्जा प्राप्त है इसके प्रचार प्रसार के लिए हर साल 14 सितम्बर के दिन हिंदी दिवस मनाया जाता है क्या है इसके पीछे का इतिहास और क्यों मनाया जाता है हिंदी दिवस Hindi Diwas आइये इस बारे में कुछ बाते जान लेते हैं

क्यों मनाया जाता है हिंदी दिवस Hindi Diwas

Hindi Diwas | Kab Manaya jata Hai Hindi Diwas

देश आज़ाद हो गया था मगर भारत की संस्कृति में अभी भी अंग्रेज़ियत का साया था जिसमे भाषा भी एक बहुत बड़ा सवाल था चूँकि कई साल तक भारत पर अंग्रेज़ों ने हुकूमत की थी तो यहाँ पढाई लिखाई पर और बोलचाल में भी अंग्रेजी भाषा का बहुत दखल हो गया था जो की एक चिंता की बात थी हाल्नकी अंग्रेजी भाषा से किसी को कोई परेशानी नहीं थी मगर देश की भी एक भाषा होनी चाहिए जो भारतियों का प्रतिनिधित्व करे जिसके लिए आज़ादी मिलने के 2 साल बाद यानि 14 सितम्बर 1949 के दिन संविधान सभा ने एक मत होकर हिंदी को राष्ट्रीय भाषा का दर्जा दिया था इसके बाद पहली बार 14 सितम्बर 1953 के दिन पहली बार हिंदी दिवस मनाया गया उसके बाद हर साल 14 सितम्बर के दिन हिंदी दिवस Hindi Diwas  मनाया जाने लगा क्या आप जानते हैं 10 जनवरी को विश्व हिंदी दिवस  मनाया जाता है 

इसी दिन यानी 14 सितम्बर के दिन व्यौहार राजेन्द्र सिंहा का 50 वां जन्मदिन भी था जिन्होंने हिंदी को राष्ट्रीय भाषा बनाने के लिए बहुत लम्बा संघर्ष किया था इनके साथ काका कालेकर, मैथलीशरण गुप्त, हजारीप्रसाद द्विवेदी, महादेवी वर्मा और सेठ गोविंददास जैसे कई सरे साहित्यकारों ने हिंदी को राष्ट्रीय भाषा बनाने में अथक प्रयास किया थे

कब मिली हिंदी और देवनागरी को आधिकारिक मान्यता

भारत विविधताओं से भरा देश है यहाँ हर कुछ किलोमीटर में लोगों का रहन सहन बदल जाता है और साथ ही बाद जाती है उनकी बोलियां जैसे बंगाली, गुजराती, तमिल, कन्नड़ आदि ये सब क्षेत्रीय बोलिया और भाषाएँ हैं इतने बड़े भारत देश में जो एक भाषा बोली और समझी जाती है वो है हिंदी महात्मा गाँधी ने हिंदी को जनमानस की भाषा कहा था गाँधी जी ने 1918 में एक सम्मेलन में हिंदी को राष्ट्र भाषा बनाने की बात कही थी

भारतीय संविधान के भाग 17 के अध्‍याय की धारा 343 (1) में हिन्‍दी को राजभाषा बनाए जाने के संदर्भ में कुछ इस तरह लिखा गया है, ‘संघ की राजभाषा हिन्दी और लिपि देवनागरी होगी. संघ के राजकीय प्रयोजनों के लिए प्रयोग होने वाले अंकों का रूप अंतर्राष्ट्रीय रूप होगा.’ 

कैसे मनाया जाता है हिंदी दिवस

हिंदी को बोलचाल की भाषा और लिखने के लिए देवनागरी लिपि का प्रयोग करने के लिए समय समय पर लोगों को जागरूक किया जाता है ताकि वो ज़्यादा से ज़्यादा हिंदी का प्रयोग करें अपनी दिनचर्या में Hindi Diwas मानने का कोई खास तरीका नहीं है मगर फिर भी इन तरीकों से आं तौर पर हिंदी दिवस मनाया जाता है 

  • हमारे राष्ट्रीकृत बैंकों और अन्य सरकारी कार्यालयों में इसके लिए विशेष हिंदी पखवाड़े का आयोजन किया जाता है
  • स्कूलों में निबंध लेखन, वाद विवाद और हिंदी भाषाण प्रतियोगिताएं का आयोजन किया जाता है

क्या हिंदी भारत की राष्ट्रीय भाषा है ?

दोस्तों जैसा की इस बात का हम सबको गर्व है की भारत एक गुलदस्ते के जैसा है जहाँ अलग अलग किस्म के फूल है और यही है खूबसूरती हमारे भारत की की यहाँ अलग अलग धर्मों के लोग एक साथ रहते हैं भाई भाई की तरह ना सिर्फ अलग अलग धर्मों के लोग बल्कि कई जातियां और जनजातियाँ भी हैं हमारे देश में सबकी संस्कृति अलग सबकी भाषाएँ बोलियाँ अलग अलग हैं ऐसे में किसी एक भाषा को राष्ट्रीय कहना ठीक और व्यावहारिक भी नहीं है इसलिए हमारे देश की कोई राष्ट्रीय भाषा नहीं है हाँ संविधान के तहत हिंदी राज्य भाषा ज़रूर हैं भारत की 

संविधान में राज्य भाषा हिंदी 

भारत के संविधान के भाग 17 के अनुच्‍छेद 343(1) में कहा गया है कि राष्‍ट्र की राजभाषा हिंदी और लिपि देवनागिरी होगी 

मातृभाषा क्या होती है ?

दोस्तों कहा जाता है की बच्चे का सबसे पहला सबक उसको उसके घर से मिलता है और घर में उसकि पहली शिक्षक उस बच्चे की मां होती है वो जिस भाषा में बच्चे से बात करती है बच्चा उस भाषा को सबसे पहले सीखता है और उसका असर उसपर ज़िन्दगी भर रह जाता है वो भाषा जिसको बच्चा अपने घर आपने आसपास के लोगों अपनी माँ से सिखाता है उस भाषा को मातृभाषा कहा जाता है  

ऐसे महत्वपूर्ण दिनों की जानकारियों के लिए यहाँ क्लिक करें 

 

कैसी लगी आपको हमारी ये जानकारी अगर आपके पास हमारे लिए कोई सुझाव है तो हमें ज़रूर कमेंट करके बताएं !

 

आप अगर लिखना चाहते हैं हमारे ब्लॉग पर तो आपका स्वागत है
 

हमसे जुड़े:  Facebook | Telegram | Instagram | LinkedIn

2 Comments on “Hindi Diwas | Kab Manaya jata Hai Hindi Diwas

Leave a Reply

Your email address will not be published.