central-vista-kya-hai-central-vista-ko-kisne-design-kiya-hai

central vista kya hai | central vista ko kisne design kiya hai

दोस्तों 8 सितम्बर 2022 के दिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सेन्ट्रल विस्टा परियोजना का उद्घाटन करेंगे साथ ही राजपथ का नाम बदल कर आज से कर्त्तव्य पथ किया जायेगा अब हर कोई ये जानना चाहता है की क्या है सेंट्रल विस्टा इसके बारे जानकारियाँ तलाश रहे हैं हर जगह इउनके हर सवाल का जवाब हम क्लाए है आज इस आर्टिकल में

दोस्तों हम hindeeka में हमेशा ये कोशिश करते है की आपके हर सवाल का जवाब दे सकें जिसके लिए हम बहुत मेहनत से रिसर्च करते हैं ताकि आपको अपने सवालों के जवाब के लिए कहीं और ना जाना पड़े आज हम जानेंगे सेंट्रल विस्टा के बारे में आइये शुरू करते हैं

क्या है सेन्ट्रल विस्टा ?

इंडिया गेट से लेकर राष्ट्रपति भवन तक दोनों तरफ फैले इलाके को Central Vista कहते हैं। इस इलाके में राष्ट्रपति भवन, साउथ ब्लॉक, उपराष्ट्रपति का निवास, संसद, नार्थ ब्लॉक आते हैं साथ ही नेशनल आर्काइव्स, इंदिरा गाँधी नेशनल सेंटर फॉर आर्ट्स, उद्योग भवन, हैदराबाद हाउस, बीकानेर हाउस, जवाहर भवन, रायसीना हिल्स ये सब सेन्ट्रल विस्टा Central Vista के अंतरगर्त आते हैं

दरअसल एक ब्रिटिश आर्किटेक्ट एडविन लुटियंस ने सन 1921-27 के दौरान संसद भवन का निर्माण करवाया जिसके लिए इंडिया गेट से लेकर राष्ट्रपति भवन तक जोकि 3 किलोमीटर का रास्ता है चुनी गई इसी गलियारे और इसके आस पास के इलाके को Central Vista नाम दिया गया है

इस इलाके यानी Central Vista को नए तरीके से बनाने की तैयारी की गई है और इस प्रोजेक्ट को नाम दिया गया है Central Vista Project

Central Vista Project का सारा डिजाइनिंग का और इससे सम्बंधित काम को HCP Design Planing and Management Private Limited को दिया है इसके कंपनी के चैयरमेन का नाम है बिमल पटेल जो की आर्चिटेक्टरिंग की दुनिया में एक प्रतिष्ठित नाम है इनको आर्चिटेक्टरिंग का 35 सालों का अनुभव है ये पद्दमश्री से भी सम्मानित किये जा चुके हैं

इन्होने केंद्र और गुजरात सरकार के लिए पहले भी काम किया है अहमदाबाद का रिवरफ्रंट प्रोजेक्ट, कांकरिया का री-डवलपमेंट, राजकोट रेसकोर्स री-डवलपमेंट, आरबीआई अहमदाबाद, गुजरात हाईकोर्ट, आईआईएम अहमदाबाद, आईआईटी जोधपुर जैसी कई बिल्डिंग्स की डिजाइन HCP Design Planing and Management Private Limited ने ही तैयार की हैं

Central Vista Project Kya hai ?

Central Vista Project का शिलान्यास किसने किया

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 10 दिसम्बर सन 2020 में देश के नए संसद भवन की नई ईमारत Central Vista का शिलान्यास किया इस कार्यक्रम के बाद उन्होंने कहा की Central Vista में सभी मंत्रालय आस पास होंगे जिसे काफी सहूलियत होगी किसी को एक से दूसरे मंत्रालय में जाने में और मंत्रालयों के आसपास होने से पूरा सिस्टम सेंट्रलाइज़्ड हो जायेगा 

प्रधानमंत्री मोदी ने ये भी कहा की वो चाहते हैं की इस सेंट्रल विस्टा का निर्माण साल 2022 से पहले हो जाये और जब देश अपनी आज़ादी की 75 वीं वर्षगांठ मना रहा होगा तो उसके पास एक नया संसद भवन होगा नया संसद भवन देश की आवश्यकताओं के अनुरूप होगा।

अगर आप इस तरह की कुछ और रोचक जानकारियां चाहते हैं तो इस लिंक पर जाएं

Central Vista Project बनाने का कॉन्ट्रैक्ट किस कंपनी के पास है

ये Central Vista Project एक बहुत बड़ा सपना है तत्कालीन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का वो खुद इसके निर्माण पर कड़ी नज़र रखे हुए हैं इसको बनाने की कुल लगत लगभग 900 करोड़ रूपए है

इसकी डिजाइनिंग का काम तो बिमल पटेल की कंपनी कर रही है मगर इसके कंस्ट्रक्शन का काम सरकार ने TATA Projects को दिया है इस काम के लिए L&T ने भी Tender में भी बोली लगाई थी मगर वो TATA Projects से ज़्यादा थी इस लिए ये काम L&T को नहीं मिल सका

सेन्ट्रल विस्टा का प्रोजेक्ट डिटेल

central-vista-kya-hai-central-vista-ko-kisne-design-kiya-hai

जैसा की हमको पता चल चूका है की सेन्ट्रल विस्टा एक नई ईमारत होगी जिसमें संसद भवन और अन्य मंत्रालयों के दफ्तर भी होंगे इसके अलावा इसमें उपराष्ट्रपति का निवास भी होगा साथ ही प्रधान मंत्री का नया निवास और प्रधानमंत्री का कार्यालय भी  सेन्ट्रल विस्टा में ही बनाया जाएगा सांसदों के लिए कार्यालयों का निर्माण किया जायगा इसके के अलावा सेन्ट्रल सेकेट्रिएट, सेकेट्रिएट एनेक्सचर सेन्ट्रल कॉन्फ्रेंस सेंटर और बहुत सारे म्युसियम भी बनाये जांयेंगे

सेन्ट्रल विस्टा में कुल 64500 वर्गमीटर क्षेत्र में नया संसद भवन बनाया जा रहा है जिसके कंस्ट्रक्शन का काम टाटा प्रोजेक्ट्स के ज़िम्मे है इसके डिजाइनिंग का काम HPC के ज़िम्मे है इस प्रोजेक्ट में पुराने संसद भवन के दोनों तरफ तिकोने ( Triangle) आकर में दो बुलिडिंग बनेंगी जैसा की आपने देख होगा की पुराने संसद भवन की जो बिल्डिंग है वो गोल आकर में है जोकि बहुत खूबसूरत नज़र आती है मगर अब जो नई बिल्डिंग बन रही है उसका आकर तिकोने ( Triangle) आकर होगा जब आप नई और पुरानी बिल्डिंग को एक साथ देखेंगे तो आपको ऐसा लगेगा जैसे आप हिरे की शेप को देख रहे हैं

अभी जो संसद भवन है हमारा उसके लोकसभा में 590 लोगों के बैठने की व्यवस्था है जबकि नए संसद भवन में 888 लोगो एक साथ बैठ सकेंगे इसके साथ विज़िटर्स गैलरी में 336 लोगों के बैठने के व्यवस्था होगी

इसी तरह अभी जो हमारी राज्यसभा है उसमे मात्र 280 लोगों के बैठने की जगह है वहीं नए संसद भवन में राज्य सभा में 384 लोग एक साथ बैठ सकेंगे और उनके साथ 336 विज़िटर्स भी राज्य सभा में एक साथ बैठ सकेंगे

चार पॉट्स पर नए केंद्रीय सचिवालय का निर्माण किया जायेगा दोनों तरफ 10 ऑफिसेस बनेंगे जिसके बाद पहली बार भारत सरकारके सचिवालयों के  सभी ऑफिस एक ही जगह पर आ जायँगे जिनसे काम आसानी से और तेज़ी से हुआ करेगा एक ऑफिस का द्दूसरे ऑफिस के बीच सामंजस्य भी अच्छा हो जायेगा

क्या है विशेषता है नए संसद भवन की

कोई भी नई ईमारत जब बनाई जाती है किसी पुरानी ईमारत के बदले में तो पुरानी ईमारत में क्या क्या खामियां रह गेन थी इसका ख्याल रखा जाता है और जब नई ईमारत का निर्माण शुरू होता है उसी वक़्त से उन पर ध्यान दिया जाता है

वैसे ही पुराने संसद भवन के बदले में जब नए संसद भवन के निर्माण की योजना बनी तो इन सब बातों का ध्यान रखा गया आइये देख लेते हैं की क्या क्या विशेषताएं हैं नए संसद भवन में

  • ऐसा नहीं की नए संसद भवन को बनाने के लिए पुराने संसद भवन को तोडा जा रहा हैं बल्कि नए और पुराने दोनों भवन साथ साथ काम करेंगे
  • राज्य सभा में अभी 280 लोगों के बैठने की जगह हैं नाये संसद भवन में ये संख्या 384 लोगों की हो जाएगी और इसके अलावा यहाँ 336 विज़िटर्स के बैठने के लिए भी जगह होगी
  • ऐसा ही लोकसभा में भी होगा पुराने लोकसभा सदन में 590 लोगों के बैठने की जगह थी जो अब बढ़कर नए सदन में 888 की हो जाएगी और यहाँ विज़िटर्स के लिए 336 सीट उपलब्ध रहेंगी
  • इस हिसाब से किसी वक़्त जॉइंट सेशन के दरम्यान दोनों सदनों में 1272 सदस्यों के एक साथ बैठने की व्यवस्था होगी
  • कॉमन रूम्स होंगे महिलाओं के लिए विशेष विश्राम कक्ष होंगे साथ ही VIP launge की
  • यहाँ हाई टेक कैफ़े डाइनिंग एरिया होंगे जहाँ लोग अपनी स्वेक्षा अनुसार भोजन कर सकेंगे
  • नए संसद भवन को कुछ इस तरह बनाया जायेगा की जहाँ लाइट्स का उपयोग कम से कम हो
  • यहाँ की एयर कंडीशनिंग लाइट्स डेकोरेटिव आइटम्स आदि को आसानी से बाद में ज़रूरत के हिसाब से अपग्रेड या बदला जा सकेगा
  • पुरे भवन का मेंटनेंस भी आसानीसे किया जा सकेगा
  • चूँकि सब सचिवालयों के ऑफिस एक साथ एक जगह पर होंगे तो काम आसान और सुगम हो जायेगा करने वाले के लिए भी और करवाने वाले के लिए भी
  • यहाँ VVIP के लिए अंडरग्रॉउंड एंट्री होगी

प्रधानमंत्री निवास

देश आज़ाद हुआ देश के पहले प्रधानमंत्री बने पंडित जवाहर लाल नेहरू अब जब प्रधानमंत्री हैं तो फिर उसके लिए प्रधानमंत्री निवास की ज़रूरत तो होगी ही जिसके लिए Flagstaff House को ही प्रधान मंत्री आवास बना दिया गया जब तक पंडित जी प्रधानमंत्री रहे और जीवित रहे यहीं Flagstaff House में ही रहे।

फिर जब 27 मई 1964 के दिन उनकी मृत्यु हो गई तब उनके इस Flagstaff House यानी प्रधानमंत्री निवास को एक संग्रहालय में बदलने की बात कही गई और ये हुआ भी उस निवास को अब संग्रहालय में बदल दिया गया हैं जिसका नाम त्रिमूर्ति भवन रखा गया हैं

बाद के प्रधानमंत्रियों को प्रधानमंत्री निवास के लिए अन्य बंगलों में जा कर रहना पड़ा अपनी सुरक्षा और सुविधा के हिसाब से सेन्ट्रल विस्टा के निर्माण से ये एक समस्या भी ख़त्म हो जाएगी प्रधान मंत्री के लिए एक निवास सुनिश्चित हो जायेगा

सेन्ट्रल विस्टा प्रोजेक्ट में जो प्रधानम्नत्री के निवास के लिए ज़मीन उसका कुल क्षेत्रफल लगभग 15 एकड़ का हैं जो की साउथ ब्लॉक में स्तिथ हैं

क्यों हो रहा था सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट का विरोध ?
  • सेन्ट्रल विस्टा का विरोध इस लिए सबसे ज़्यादा हो रहा हैं क्योंकि देश में अभी कोरोना की वजह से जो हालत बने हुए हैं उससे निपटना ज़्यादा ज़रूरी हैं जो पैसे यहां खर्च हो रहे हैं वो मेडिकल सुविधाओं को बढ़ने में खर्च करने चाहिए 
  • एक बात ये हैं विरोध कि की सेन्ट्रल विस्टा जिस जगह मौजूद हैं वहां बहुत हरियाली हैं इस प्रोजेक्ट  के लिए ना जाने कितने सारे पेड़ काटने पड़ेंगे और पहले से प्रदुषण का स्तर ऐसा हैं दिल्ली में इसके बाद क्या होगा
  • एक ये वजह भी बताई जा रही हैं विरोध की की जब पूरा भारत वर्ष अपने आपको घरों में क़ैद करके रख रहा हैं तब ऐसी क्या मज़बूरी हैं की सेंट्रल विस्टा में मजदूरों से अब भी काम करवाया जा रहा हैं क्या उनको कोरोना नहीं होगा ऐसा विरोधी कह रहे हैं

उम्मीद हैं की आपको ये आर्टिकल कुछ जानकारी देने में कामयाब हो सका होगा अगर आपके पास हमर लिए कोई सुझाव हैं या आप हमसे कुछ सनझा करना चाहते हैं तो आप हमें कमेंट कर सकते हैं।

अगर आप हमारे साथ अपने Article साँझा करना चाहते हैं तो आपका स्वागत है !

हमसे जुड़े : Facebook | Telegram 

Leave a Reply

Your email address will not be published.