Royal Enfield Electric Bike | Royal Enfield in Hindi

रॉयल एनफील्ड इलेक्ट्रिक बाइक Royal Enfield Electric Bike (कैसी होगी रॉयल एनफील्ड की इलेक्ट्रिक बाइक क्या खूबियाँ होंगी उसमें और सबसे अहम बात कितनी कीमत होगी)

दोस्तों धीरे धीरे हर ऑटोमोबाइल कंपनी अपना Electric Vehicle का मॉडल तैयार कर रही है इसका भविष्य देखते हुए अब रॉयल एनफील्ड ने भी Royal Enfield Electric Bike बनाने की सोची है जिसपर काम शुरू भी कर दिया है कंपनी ने

हम hindeeka में हमेशा कोशिश करते हैं कि आपको हर खबर से अपडेट रखें एक खबर आई है की युवाओं की दिल की धड़कन रॉयल एनफील्ड ने अपनी इलेक्ट्रिक बाइक पर काम शुरू कर दिया है जब से ये खबर आई है लोगों के बीच खलबली है और हर कोई ये जानना चाहता है की कैसी होगी रॉयल एनफील्ड की इलेक्ट्रिक बाइक क्या खूबियाँ होंगी उसमें और सबसे अहम बात कितनी कीमत होगी इस बाइक की आइये जान लेते हैं

रॉयल एनफील्ड इलेक्ट्रिक बाइक

Royal Enfield Electric Bike  Royal Enfield in Hindi

जैसे जैसे पेट्रोल और अन्य इंधनों में बेताहाशा वृद्धि हो रही है धीरे धीरे हर कंपनी अपने प्रीमियम सेगमेंट में एक इलेक्ट्रिक व्हीकल को लांच कर रही है या फिर उसकि पूरी तयारी में लगी हुई है अब चाहे हो कार बनाने वाली कंपनी हो या फिर टू व्हीलर बनाने वाली कोई कंपनी हो Hero Motorcorp और Ola आदि कंपनियों ने अपनी EV bike का प्रोडक्शन भी शुरू कर दिया है

भविष्य में इन EV यानी Electric Vehicle का ही बोलबाला होने वाला है इसको देखते हुए युवाओं की पहली पसंद Royal Enfield ने भी इस ओर ध्यान दिया है इसके लिए कम्पनी ने ना सिर्फ भारत में बल्कि पूरी दुनिया के अलग अलग जगहों पर अपने Electric Vehicle के Prototype की टेस्टिंग भी शुरू कर दी है ऐसा माना जा रहा है की कंपनी साल 2025 तक अपनी पहली Royal Enfield Electric Bike लांच करेगी

Electric Vehicle में बड़ा निवेश करेगी Royal Enfield

Bullet Motorcycle बनाने वाली कम्पनी Royal Enfield के CEO बी. गोविंदराजन ने कहा है की आने वाले 6 महीनों के अन्दर कम्पनी EV मार्केट में एक बड़ा निवेश करने जा रही अलग अलग सेगमेंट में कंपनी अपने Royal Enfield Electric Bike लांच करने का इरादा रखती है अगले पांच सैलून में कम्पनी EV मार्केट में 2000 करोड़ का निवेश करेगी

क्या आप जानते हैं – AQI क्या होता है ?

दोस्तों अब ज़रा बात कर लेते हैं Royal Enfield के इतिहास की

दोस्तों आज हम बात कर रहे हैं Royal Enfield Electric Bike की मगर हमको इस बाइक के इतिहास की जानकारी भी होनी चाहिए, आप किसी रास्ते से गुज़र रहे हों, अचानक आपके आसपास से कोई धकधक करती हुई Motorcycle की आवाज़ आए। मगर आप उसे अभी देख नहीं सकते हों, उसके होने का एहसास आपको हो जाए तो यकीनन आप Royal Enfield के बारे में सोच रहे है. हर किसी Biker का शौक होता है की, उसके पास भी हो एक Bullet ये जलवा है. Royal Enfield Bullet का एकदम मर्दाना अंदाज़ जबर्दस्त आवाज़ के साथ आज हम बात करेंगे Royal Enfield Bullet की जिसका Tag Line है “Made Like A Gun”. जितनी दिलकश इसकी सवारी है, उतनी ही दिलकश है Royal Enfield की कहानी. ब्रिटेन से शुरू हुई और भारत तक आ गई। सन 1994 में भारत की व्यावसायिक वहाँ बनाने वाली एक Company Eicher ने Royal Enfield का मालिकाना हक़ हासिल कर लिया.अब हालत ये है की, भारत से ब्रिटेन,अमेरिका,यूरोप जहां जहां Royal Enfield को पसंद करने वाले लोग हैं, इसका निर्यात किया जाता है. सन 1999 से Eicher के सिद्धार्थ लाल ने Company की बागदौड़ अपने हाथों में ली Royal Enfield ने Motorcycle Industry का नक्शा बादल दिया है, हालत ये है की, जहां दूसरी किसी Bike की delivery तुरंत मिल जाती है। आपको Royal Enfield के लिए 6 महीनों तक का इंतज़ार करना पड़ सकता है.  

क्या है Royal Enfield का इतिहास ?

आज जिस Royal Enfield को हम देखते हैं और कुछ ही दिनों में Royal Enfield Electric Bike भी देखेंगे , उसको देखकर या उसकी शान की सवारी करते हुए। बहुत कम लोगों को ये  जानकारी होगी की Royal Enfield कोई बनाने वाली Company सुई बनाया करती थी, पहले इसका मतलब है उस Company ने सुई से लेकर Royal Enfield Bikes तक सफ़र किया तो बात है, सन 1891 की बॉब वॉकर स्मिथ और अल्बर्ट एड्डी ने जॉर्ज टाउनसेंड एंड कंपनी ऑफ हंट एंड, रेडडिच को खरीदा। टाउनसेंड को लगभग 50 सालों से अधिक का अनुभव था सुई बनाने का और वो इस क्षेत्र में बहुत सम्मानित Company थी, जिसने अभी अभी Motorcycle बनाने का काम शुरू किया था.

इस आर्टिकल की वेब स्टोरी देखिये

Royal Enfield 1893 से 1898 तक

सन 1893 में बॉब वॉकर स्मिथ और अल्बर्ट एड्डी ने मिडल्सेक्स को  Royal Arm Factory को Spear Part Supply करने का Contract मिला, जो की एक बड़ा Contract था, ज़हीर है दोनों बहुत खुश हुए इस खुशी के मौके पर उन्होने अपने फर्म का नाम एनफील्ड मैन्युफैक्चरिंग कंपनी लिमिटेड रख दिया. और अपनी पहली बॉब वॉकर स्मिथ Motorcycle का नाम Enfield रखा, फिर अगले साल उन्होने इसका नाम  Royal Enfield रख लिया और अपनी Tag Line उन्होने Made like A Gun बना लिया.

सन 1898 में बॉब वॉकर स्मिथ Company अपनी पहली Motorcycle का Design करते हैं, इस डिज़ाइन में लोहे के दो फ्रेमों का इस्तेमाल किया जाता है। इसमें 1.5 HP D Deon इंजन लगाया जाता है, Company अपने व्यापारिक नाम को द एनफील्ड साइकिल कंपनी लिमिटेड का नाम देती है. यही नाम अगले 70 सालों तक इस Company ने इस्तेमाल किया.

Royal Enfield 1901 से 1999 तक

सन 1901 में पहली Royal Enfield मोटर साइकल का उत्पादन किया जाता है, इस मोटर साइकल का डिज़ाइन बॉब वॉकर स्मिथ और एक फ्रेंचमेन जूल्स गाइट ने किया था, जो देखने में बहुत आकर्षक थी इसके स्टेयरिंग हैड के सामने 1.5 मिनर्वा इंजन लगाया गया था। जिसकी Rear Wheel एक लंबे से रॉहाइड बेल्ट से नियंत्रित होते थे, जिनसे इस मोटर साइकल को गति मिलती थी.

सन 1909 में स्टेनली साइकल शो जो की उस जमाने का मशहूर Auto Expo हुआ करता था, में Royal Enfield का पहला V- Twin जिसमे 297 CC का स्विस कंपनी का इंजन लगा हुआ था. इस मोटर साइकल को वहाँ खूब सराहा गया। हर जगह बस इसी के चर्चे थे, अगले साल तक इस मोटर साइकल ने कई सारी सफलताएँ हासिल की जिसमें मशहूर Auto Expo जॉन ओ ग्रेट्स से लेकर लैंड एंड ट्रायल तक शामिल हैं.

सन 1914 ये वो दौर था, ब्रिटेन प्रथम विश्व युद्ध में उलझा हुआ था इस बीच Royal Enfield ने अपनी पहली 2 Stroke Motor Cycle का उत्पादन शुरू कर दिया. इस विश्व युद्ध में  Royal Enfield की मोटर साइकल ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी, अपनी अनोखी और मजबूत बनावट की वजह से ये सेना की पहली पसंद थी, ये वहाँ तक जा सकती थी जहां जीप और अन्य वाहन नहीं जा सकते थे. Royal Enfield ने अपनी 770cc 6 hp V-ट्विन, मोटरसाइकल का उत्पादन भी शुरू कर दिया। इस युद्ध के दौरान Royal Enfield कंपनी ब्रिटिश, बेल्जियम, फ्रेंच, संयुक्त राज्य और इंपीरियल रूसी सेनाओं को मोटरसाइकिल की आपूर्ति की थी.

सन 1924 में Royal Enfield ने अपनी पहली Sports Model 351 Launch की, और साथ ही 8 नए Model भी Launch किए थे। जिससे Auto Sector में काफी हलचल मचा दी थी, इस शृंखला में Royal Enfield ने 350 CC ओएचवी 4-स्ट्रोक मोटरसाइकिल भी launch की थी। जिसमे पहली बार पैर से गेयर नियंत्रित किया जा सकता था, साथ ही Company ने अपने Ladies ग्राहकों के लिए भी एक Bike Launch की थी जिसमें अनोखा 255 CC का 2 – Stroke इंजन वाली Bike थी.

सन 1930 की शुरुवात Company ने अपने 11 नए Models के साथ की थी, जिसमें 225cc 2-स्ट्रोक मॉडल A से लेकर 976cc V- ट्विन मॉडल K. न्यू 350 और 500cc साइड-वॉल्व और ड्राई-सॉम्प स्नेहन के साथ ओवरहेड वाल्व मशीनों का भी उत्पादन किया जाने लगा था.

सन 1933 Company के लिए काफी उथल पुथल भरा रहा इस साल Company के एक महत्वपूर्ण Partner और संस्थापक और Joint Managing Director बॉब वॉकर स्मिथ का निधन हो गया. इस घटना के बाद उनके बेटे मेजर फ्रेंक स्मिथ ने Company का पूरा नियंत्रण अपने हाथों में ले लिया, फ्रेंक इससे पहले भी इस कंपनी से जुड़े हुए थे। वो अपने पिता के साथ Joint Managing Director के तौर पर काम करते आ रहे थे.

सन 1936 में कंपनी ने पहली बार 500 CC bullet Model का उत्पादन शुरू कर दिया, ये कुछ विशेष Order पर ही बनाए जाते थे। इसमें 4- Valve Cylinder Head वाले भरोसेमंद इंजन लगे हुए थे.

सन 1939 से 1945 ये दौर था, जब विश्व द्वितीय विश्व युद्ध के भयानक समय से गुज़र रहा था। इस दरम्यान Royal Enfield ने बड़ी मात्रा में सैनिकों के लिए सैन्य मोटरसाइकिल, साइकिल, जनरेटर और एंटी-एयरक्राफ्ट गन बनाने की घोषणा की थी, इसी दौरान company ने अपनी सबसे प्रतिष्ठित Model “Airborne” Motorcycle launch की इसकी विशेषता ये थी की, 126 CC 2- Stroke में पैराशूट क्रैडल में लोड किया जा सकता था। और दुश्मन के पीछे पैराट्रूप के साथ गिराया जा सकता था.

सन 1948 द्वितीय विश्व युद्ध जब समाप्त हुआ और थोड़ी सी स्थिरता आ गई, तब Royal Enfield ने 350 CC इंजन का बुलेट का Prototype बनाया। जिसमे रैडिकल ऑइल-डैम्प्ड स्विंगिंग आर्म रियर सस्पेंशन था इस Prototype को Colmore Cup Trial में प्रदर्शित किया गया था, इसी साल 1948 में इटली में आयोजित ISTT (International Six Days Trails) Bullet Team के दो सवारों को स्वर्ण पदक मिला.

सन 1949 Royal Enfield और भारत के सम्बन्धों के लिए एक महत्वपूर्ण साल था, इसी साल के. सुंदरम अय्यर ने रॉयल एनफील्ड्स सहित ब्रिटिश मोटरसाइकिलों को भारत में आयात करने के लिए मद्रास मोटर्स की शुरुआत की थी. और इसी साल Royal Enfield ने 350 CC Bullet और 500 Twin model UK में launch किए दोनों में एक बाइक फ्रेम, स्विंगिंग आर्म सस्पेंशन, टेलीस्कोपिक फ्रंट फोर्क्स और गियरबॉक्स थे.

सन 1952 मद्रास मोटर्स को भारतीय सेना से 500 और 350 CC Bullet का एक बड़ा Order मिला था, और इस ऑर्डर की भरपाई रेडडिच से सन 1953 के शुरुवाई दिनों में भारतीय सेना को मिली और ये एक बड़ी सफलता थी Royal Enfield के लिए.

सन 1955 Redditch Company ने भारत में मद्रास मोटर्स को Enfield India बनाने के लिए एक साझेदारी की जिसके तहत मद्रास के पास तिरुवोटियूर में इस उद्देश्य के लिए कारखाने का निर्माण शुरू करवाया गया.    

सन 1956 में मद्रास मोटर्स का कारख़ाना तिरुवोटियूर में बन कर पूरी तरह से तैयार हो गया था, निर्माण के लिए शुरुवाती दिनों में मशीनों को इंग्लैंड से भेजा जाता था. फिर यहाँ कारखाने में उन मशीनों के पुर्जों को Assemble किया जाता था, और Bullet अपनी शक्ल में आता था. सन 1956 के आखरी दिनों तक तिरुवोटियूर के कारखाने में 163 Enfield India Bullet बनाए गए थे.

सन 1967 साल के शुरुवाती दिनों मे केवल दो models 250 CC Continental और 736 CC Interceptor ही Redditch के कारखाने में बन सके, क्योंकि Redditch की ज़मीन बिक गई. Interceptor का उत्पादन एवन पर ब्रैडफोर्ड के पास, ऊपरी वेस्टवुड में एनफील्ड की भूमिगत कारखाने में जारी रखा गया। जब तक 1970 में इसे पूरी तरह बंद नहीं कर दिया गया.

सन 1977 में एक अजीब बात हुई, जब ब्रिटेन जहां Royal Enfield की स्थापना हुई थी, वहाँ भी अब भारत से Enfield India 350 CC bullet निर्यात करने लगा था. साथ ही भारत से ही यूरोप आदि देशों में इसका निर्यात किया जाने लगा.

सन 1993 Enfield India विश्व की पहली ऐसी Company बनी, जिसने बड़े पैमाने पर Diesel से चलने वाली Motorcycle का उत्पादन शुरू कर दिया. Diesel से चलने वाले इस Bullet का इंजन 325 CC का था.

सन 1994 भारत की एक व्यावसायिक वहाँ और Tractor बनाने वाली Company The Eicher Group ने Enfield India का पूरी तरह से अधिग्रहण कर लिया.

सन 1997 40 Royal Enfield Motorcycle दुनियाँ के कुछ सबसे ऊंची पहाड़ी सड़कों से गुजरती हुई, खारदुंग ला पास (लद्दाख) तक की चढ़ाई की थी. जो की एक नया कीर्तिमान था, किसी मोटरसाइकल के लिए उसके बाद हर साल यहाँ Himalayan Odyssey का आयोजन किया जाने लगा.

सन 1999 Royal Enfield ने ऑस्ट्रेलिया की एक कंपनी AVL के design का इस्तेमाल किया जिसके फलस्वरूप 350 सीसी ऑल-एल्युमनियम लीन-बर्न बुलेट इंजन का उत्पादन जयपुर, राजस्थान के पास एक नए रॉयल एनफील्ड प्लांट में शुरू किया गया.

Royal Enfield 2000 से अब तक

सन 2005 Royal Enfield ने भारत में अपनी 50 वीं साल गिरह मनाने के लिए,  थंडरबर्ड और बुलेट इलेक्ट्रा मॉडल और ’द लीजेंड राइड्स ऑन’ कॉफी टेबल बुक के साथ मनाया।

सन 2008 भारत में Thunderbird Twinspark को एक नए Unit Construction Engine (UCE) के साथ लॉंच किया गया. Royal Enfield ने Classic भारत की पहली 500 CC EFI, Euro- III European Market के हिसाब से बनाया.

सन 2009 में  UCE Engine 500 CC भारत में लॉंच की गई, ये मोटरसाइकल पुरानी मोटरसाइकल के जैसे देखने में थी. इसके Classic look ने भारतीय बाज़ार और यहाँ के युवाओं पर जैसे जादू ही कर दिया। और इसकी बिक्री में लगातार बढ़ोतरी दर्ज की गई.    

सन 2012 में Royal Enfield ने अपनी पहली Highway Cruiser Motorcycle launch की. Thunderbird 500 के नाम से तिरुवोट्टियूर प्लांट 113,000 मोटरसाइकिल की बिक्री को पूरा करने के लिए एक नया उत्पादन रिकॉर्ड स्थापित किया.

सन 2014 में Royal Enfield ने नई दिल्ली के ख़ान मार्केट में अपना पहला Accessories का Retail Outlet खोला  जिसको काफी सराहा गया इसके ग्राहकों के द्वारा.

सन 2015 Royal Enfield अपनी गुणवत्ता और अपनी उत्पादन क्षमता को बढ़ाने के लिए एक प्रसिद्ध ब्रिटिश मोटरसाइकिल डिजाइन और फैब्रिकेशन फर्म हैरिस परफॉर्मेंस का अधिग्रहण किया था.

सन 2016 Royal Enfield ने अपनी पहली Adventure Bike को launch किया, और इसका नाम रखा गया Royal Enfield Himalayan. 411CC के Engine के साथ इस Bike की सवारी उन लोगों को ख़ासी पसंद आई जो की रोमांच के शौकीन थे. इस की सवारी सड़कों और बिना सड़कों के आसानी से की जा सकती थी इसका Ruff Tuff लूक भी गज़ब की कशिश लिए हुए था. 

सन 2017 ब्रिटेन में लीसेस्टर के पास ब्रिंगथोरपे प्रोविंग ग्राउंड में रॉयल एनफील्ड टेक्नोलॉजी सेंटर की शुरुवात की गई थी, यहाँ 100 से ज़्यादा इंजीनियरों, डिजाइनरों और परीक्षकों की एक टीम अनुसंधान, विकास और दीर्घकालिक उत्पाद रणनीति पर काम करना शुरू किया.

सन 2018 Royal Enfield Classic 500 Pegasus को Imperial War Museum डक्सफोर्ड, यूके में launch किया गया था भारतीय बाजार में 250 मशीनों का आवंटन 3 मिनट के भीतर होता है.

सन 2018 में कैलिफोर्निया की 18 वर्षीय रेसर केला रीवा, बोनविले साल्ट्स फ्लैट्स में स्पीड वीक के दौरान 157.053 मील प्रति घंटे की स्पीड से एक नया लैंड रिकॉर्ड बनाती हैं। उसकी बाइक, एक कॉन्टिनेंटल जीटी 650 ट्विन, विशेष रूप से एस एंड एस साइकिल इंजन ट्यूनिंग के साथ बोनविले के लिए तैयार की गई थी.

Royal Enfield के मालिक का नाम क्या है ?

दोस्तों बड़े गर्व का विषय है की अब रॉयल एनफील्ड के मालिक एक भारतीय हैं जिनकी कंपनी भारत में कमर्शियल मोटर्स बनाने का काम करती आई है जिसका नाम आयशर मोटर्स है इसके संस्थापक विक्रम लाल थे अब इस कम्पनी का संचालन सिद्धार्थ लाल करते हैं आयशर मोटर्स का कॉर्पोरेट ऑफिस नई दिल्ली में है और रॉयल एनफील्ड का कॉर्पोरेट ऑफिस चेन्नई में है जहाँ बात चल रही है Royal Enfield Electric Bike के कई सारे डिजाईन के बारे जो बहुत जल्दी हमको अपने शहर के शोरूम में देखने को मिलेगी

ज्यादा जानकारी के लिए आप रॉयल एनफील्ड की ऑफिसियल वेब साईट पर विजिट कर सकते हैं – https://www.royalenfield.com/us/en/home/

Royal Enfield से जुंडे कुछ अन्य सवाल

  1. Q.1 रॉयल एनफील्ड कहाँ की किस देश की कंपनी है ?

    A.1 रॉयल एनफील्ड भारत की आयशर मोटर्स के स्वामित्व वाली कंपनी है

  2. Q.2 रॉयल एनफील्ड के मालिक का नाम क्या है ?

    A.2 रॉयल एनफील्ड कंपनी के संचालक का नाम सिद्धार्थ लाल है

  3. Q.3 रॉयल एनफील्ड अपनी इलेक्ट्रिक बाइक कब लांच कर रही है ?

    A.3 Royal Enfield Electric bike 2025 तक लांच करेगी

  4. Q.4 रॉयल एनफील्ड का ऑफिस कहाँ है ?

    A.4 रॉयल एनफील्ड का कॉर्पोरेट ऑफिस चेन्नई में है

  5. Q.5 रॉयल एनफील्ड विदेशों में बिकती है क्या ?

    A.5 रॉयल एनफील्ड बाइक भारत सहित कई देशों में बिकती है

ऐसी अन्य जानकारियों के लिए यहाँ क्लिक कीजिये

कैसी लगी आपको हमारी ये जानकारी अगर आपके पास हमारे लिए कोई सुझाव है तो हमें ज़रूर कमेंट करके बताएं !आप अगर लिखना चाहते हैं हमारे ब्लॉग पर तो आपका स्वागत है

हमसे जुड़े : Facebook | Telegram | Instagram

1 thought on “Royal Enfield Electric Bike | Royal Enfield in Hindi”

Leave a Comment