Satellite Internet kya hota hai | Starlink Project kya hai

आज के समय में किसी से ये कहना की वो 1 दिन भी इंटरनेट के बगैर रह जाए इसी के लिए ये कहना ऐसा होगा जैसे वो किसी को कोई सज़ा सुना रहा है हमारी ज़िन्दगी का एक अटूट हिस्सा बन गया है इंटरनेट आप पढाई करते हों की आपका कोई व्यापार व्यवसाय हो या आप कहीं किसी जगह नौकरी करते हों ये ज़रूरी नहीं की वो नौकरी सरकारी हो ज़रूरी बस ये है की आपको काम करने के लिए जो सबसे ज़्यादा ज़रूरी चीज़ है वो इंटरनेट है ज़माना बदल रहा है इंटरनेट पहले सिर्फ ब्रॉडबैंड के ज़रिये हमको उपलब्ध हो पता था फिर मोबाइल पर wifi के ज़रिये हमको इंटरनेट मिलने लगा मगर कैसा हो अगर हमको इंटरनेट सॅटॅलाइट के ज़रिये मिलने लगे जी हाँ आपने सही पढ़ा है अब बहुत जल्दी आपको एलेन मास्क की कंपनी Starlink भारत में Satellite Internet की शुरुवात करने वाली है इस आर्टिकल में हम जानेंगे की 

  • क्या है Satellite Internet
  • कैसे काम करता है सॅटॅलाइट इंटरनेट
  • और सॅटॅलाइट इंटरनेट की क्या स्पीड होगी और उससे जुडी हुई तमाम बातें

क्या है Satellite Internet

बहुत जल्दी आपके इंटरनेट के इस्तेमाल का तरीका और उअका अनुभव बदलने वाला है अब तक आपने ब्रॉडबैंड, wifi या मोबाइल data के ज़रिये इंटरनेट का इस्तेमाल किया होगा मगर अब आप Satellite Internet के ज़रिये इंटरनेट का इस्तेमाल करेंगे वो भी नए और बेहतर अनुभव के साथ अब सवाल ये है की क्या होता है ये Satellite Internet आइये समझते है।

इस नई तकनीक में होता ये है की हमारा सर्विस प्रोवाइडर जो हमें इंटरनेट की सर्विस देता है मोबाइल या ब्रॉडबैंड के ज़रिये वो अब हमको ये सुविधाएँ देगा मगर बिना किसी ऑप्टिकल फाइबर केबल के वो सीधा अंतरिक्ष में स्थित उपग्रह को इंटरनेट के सिग्नल भेजेगा और आपको बिना किसी झंझट के इंटरनेट की सुविधा मिलेगी आपके डिवाइस पर आप इस सुविधा का इस्तेमाल वहां भी कर सकेंगे जहाँ आपके मोबाइल का नेटवर्क काम नहीं कर रहा हो यानी आप हमेशा 24 घंटे ऑनलाइन रह सकते हैं और इंटरनेट का उपयोग कर सकेंगे 

कैसे काम करता है Satellite Internet 

kya hai satellite internet

बहुत से हमारे दोस्तों को ऐसा लग रहा होगा की ये कोई नई तकनीक आ गई है मगर दोस्तों ऐसा नहीं है इसी तकनीक के द्वारा हम घरों में D2H डायरेक्ट टू होम के ज़रिये सॅटॅलाइट TV का मनोरंजन कर रहे हैं कई सालों से बस इस में एक समस्या है की D2H सर्विस में जो उपग्रह इस्तेमाल किये जाते है वो धरती से बहुत दूर होते हैं जिसकी वजह से इंटरनेट की सुविधा का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता इसके लिए एलान मस्क की कंपनी Starline Project ने अपने सॅटॅलाइट को LEO (Lower Earth Orbit) में स्थापित किया है जो धरती से 550 से 1200 किमी दूरी पर हैं इससे होता ये है की इंटरनेट के सिग्नल आसानी से उपग्रह से धरती पर प्राप्त किये जा सकते हैं

इस तकनीक में एक लेज़र बीम के ज़रिये डाटा टांस्फर किया जाता है जिससे प्रकाश की गति से डाटा उपग्रह तक फिर वहां से उपयोगकर्ता तक भेजा जाता है इस वजह से इसकी स्पीड भी बाउट अच्छी होती है लेज़र का सिग्नल उपयोगकर्ता था बहुत अच्छी तरह से मिलना चाहिए ताकि वो इसका इस्तेमाल बड़ी आसानी से कर सके इसके लिए एक सॅटॅलाइट अपने आस पास के दूसरे चार सॅटॅलाइट से जुड़कर एक नेटवर्क बना कर काम करते हैं और ये सुविधा आसानी से इस्तेमाल की जा सकती है

कैसे पहुंचेगा धरती तक इंटरनेट उपग्रह से

एलन मस्क कि कंपनी Starlink का कहना है कि उनकी ये तकनीक उपयोगकर्ता को Low Latency Internet उपलब्ध करवाएगी Low Latency का मतलब होता है कि डाटा एक जगह से दूसरी जगह जाने में लगाने वाला कम से कम समय है

Starlink Satellite Internet का उपयोग करने के लिए एक डिश मुहैया करवाता है जिसे आपको अपने ऑफिस या घर या जहाँ आप इस्तेमाल करना चाहते हों इंटरनेट वहां खुले आसमान के निचे लगाना होगा सॅटॅलाइट के पोजीशन के हिसाब से और अगर आप मोबाइल पर इस्तेमाल करना चाहते हों तो उसके लिए एक मोबाइल अप्प इंस्टाल करना होगा आपको जो आपके मोबाइल और सॅटॅलाइट को जोड़ेगा जिससे आप कहीं भी इंटरनेट का उपयोग बिना किसी परेशानी के कर सकेंगे 

कितनी स्पीड मिलेगी Starlink Satellite Internet से

Starlink Satellite Internet kya hai

अब हम ये जान गए हैं कि क्या है Starlink Satellite Internet और कैसे हमको ये सुविधा मिलेगी अब बात ये आती है कि दोस्त इस इंटरनेट कि क्या स्पीड होगी कहीं ऐसा तो नहीं कि हम जो पारम्परिक तौर पर इंटरनेट उपयोग करते हैं उससे कम हो स्पीड आइये इस महत्वपूर्ण विषय को भी देख लेते हैं 

अभी Starlink Satellite Internet अपने टेस्टिंग के समय में है यानी इसके beta version पर कंपनी काम कर रही है अभी जहाँ जहाँ भी इसका इस्तेमाल हो रहा है वहां इसकी स्पीड 50 MBPS से लेकर 150 MBPS तक है अमेरिका में ये 99.23 MBPS कि डाउनलोड स्पीड दे रहा है और 13.89 MBPS की अपलोड स्पीड दे रहा है आपको बता दें की अमेरिका में ब्रॉडबैंड की डाउनलोड स्पीड 115.22 MBPS की और अपलोड स्पीड 17.18 MBPS की है 

दुनिया भर में इंटरनेट की स्पीड पर नज़र रखने वाली कंपनी उकला OOKLA ने कहाँ है की Starlink Satellite इंटरनेट की स्पीड बहुत सारे देशों में मौजूदा ब्रॉडबैंड इंटरनेट के स्पीड के बराबर आ गई है वहीँ कई ऐसे देश भी है जिनके ब्रॉडबैंड की स्पीड से ज़्यादा है Starlink Satellite Internet की स्पीड 

क्या है Starlink Project

दुनिया के एक चर्चित बिजनेसमैन एलान मस्क का नाम ऐसे लोगों में गिना जाता है जिनके लिए नामुमकिन शब्द शायद बना ही नहीं है या उनकी ज़िन्दगी में तो कम से कम इस शब्द का कोई मतलब नहीं है बात करें Starlink Project की तो वो इनकी एक बहुत बड़ी सोच का नतीजा है उनकी एक और कम्पनी है जिसका नाम Space X है इस कंपनी के ज़रिये वो अंतरिक्ष में उपग्रहों को भेजते हैं अब इसकी सहायता से वो Starlink Project का काम कर रहे हैं

दरअसल एलन मस्क Starlink Project के द्वारा दुनिया भर में वायरलेस सॅटॅलाइट इंटरनेट देना चाहते हैं जिसके लिए वो अंतरिक्ष में अपने Space X के द्वारा 42000 उपग्रह भेजेंगे अपने इस काम के लिए उन्होंने साल 2025 का समय तय किया हुआ है

क्या फायदे हैं Satellite Internet के

  • ऐसे ग्रामीण इलाके जहाँ इंटरनेट पहुँचाने का कोई रास्ता नहीं वहां सॅटॅलाइट इंटरनेट बहुत अच्छे से काम करेगा
  • दुर्गम और पहाड़ी क्षेत्रों में भी इसकी उपयोगिता साबित होगी
  • सॅटॅलाइट इंटरनेट से GPS सम्बंधित कामों को आसानी से किया जा सकेगा
  • ऑप्टिकल फाइबर केबल या मोबाइल नेटवर्क की ज़रूरत खत्म हो जाएगी इसके आने से

क्या नुक्सान है Satellite Internet के

  • सॅटॅलाइट इन्टरनेट पारम्परिक इन्टरनेट से महंगी होगी
  • उपलब्धता तो होगी इसकी कर जगह मगर इसका इस्तेमाल सबके बस की बात नहीं होगी
  • किसी तकनिकी खराबी के दौरान समस्या का सामना करना पड़ सकता है

भारत में कब शुरू होगी Starlink Satellite Internet

भारत सरकार के दूर संचार विभाग ने एलन मस्क कि कंपनी Starlink Satellite को लाइसेंस के लिए अनुमति दे दी है जैसे ही ज़रूरी प्रक्रिया पूरी कर ली जाती है कंपनी के द्वारा मस्क कि कंपनी को अनुमति मिल जाएगी कि वो भारत में सॅटॅलाइट इंटरनेट कि सुविधा अपने ग्राहकों को दे सकती है 

दुनियां में कहाँ कहाँ है Starlink Satellite Internet

अभी इस समय Starlink Satellite Internet की सुविधा ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, UK, कनाडा, चिली, पुर्तगाल, USA समेत 14 देशों में मिल रहा है इस समय स्टारलिंक ब्रॉडबैंड ने दुनियाभर में 90 हजार सब्सक्राइबर्स हासिल कर लिए हैं

कितने में मिलेगा Starlink Satellite Internet भारत में 

स्टारलिंक की ऑफिशियल वेबसाइट के अनुसार 99 डॉलर यानी करीब 7,200 रुपए में इसकी प्री-बुकिंग शुरू हो चुकी है। यह अमाउंट पूरी तरह से रिफंडेबल है

 

आपको ये भी जानना चाहिए

क्या है गूगल का प्रोजेक्ट स्टारलाइन 

 

 

कैसी लगी आपको हमारी ये जानकारी अगर आपके पास हमारे लिए कोई सुझाव है तो हमें ज़रूर कमेंट करके बताएं !

 

आप अगर लिखना चाहते हैं हमारे ब्लॉग पर तो आपका स्वागत है

हमसे जुड़े : Facebook | Telegram | Instagram

2 Comments on “Satellite Internet kya hota hai | Starlink Project kya hai

Leave a Reply

Your email address will not be published.