Ayush Visa in Hindi | Ayush Visa se kya labh hoga

मेडिकल टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए भारत के प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी ने आयुष वीज़ा Ayush Visa जारी करने की बात कही है ऐसे बहुत सारे लोग हैं जो सिर्फ इलाज के लिए भारत आते हैं जिन्हें अब वीज़ा से सम्बंधित परेशानियों का सामना कम करना पड़ेगा भारत की प्राचीन चिकित्सा पद्धति सारी दुनियाँ में प्रसिद्ध है साथ ही यहाँ आधुनिक चिकित्सा के ज़रिये भी इलाज करवाना बहुत सस्ता है जिसके लिए विदेशों से बड़ी संख्या में लोग अपना इलाज करवाने आते हैं भारत

क्या है आयुष वीज़ा Ayush Visa ?

ayush-visa-in-hindi-|-ayush-visa-se-kya-labh-hoga

दोस्तों इस बात पर हमें गर्व होना चाहिए की हमारे देश की प्राचीन चिकित्सा पद्धति का लोहा अब धीरे धीरे दुनियाँ मानने लगी है जटिल से जटिल बिमारियों का इलाज भी इन पद्धतियों से किया जा सकता है

ना सिर्फ प्राचीन चिकित्सा पद्धति आधुनिक चिकित्सा पद्धति में भी हमे देश ने अपना एक अलग मुकाम बनाया हुआ है जिसकी वजह से सारी दुनियां के कोने कोने से लोग अपने असाध्य रोगों के इलाज के लिए

उनके यहाँ आने का मुख्य कारण है की एक तो यहाँ उनका इलाज हो जाता है साथ ही पैसे भी कम लगते हैं और दुसरे देशों के मुकाबले इन बहार से आने वाले लोगों के लिए जो भारत में आकर इलाज करवाना चाहते हैं उनके लिए वीज़ा की एक नई केटेगरी आयुष वीज़ा शुरू करने की घोषणा की है आयुष वीजा की शुरुआत हील इन इंडिया (Heal In India) कैंपेन के तहत भारत में मेडिकल टूरिज्म को प्रमोट करने के लिए की गई है

प्रधानमंत्री मोदी गांधीनगर के महात्मा मंदिर में तीन दिवसीय वैश्विक आयुष निवेश और नवाचार शिखर सम्मेलन 2022 के उद्घाटन के अवसर पर बोल रहे थे उन्होंने कहा की

भारत चिकित्सा पर्यटन के लिए एक बहुत ही आकर्षक गंतव्य है. हम इसके मेडिकल इंडस्ट्री के कारण केरल के टूरिज्म में बढ़ोतरी के साक्षी रहे हैं. इस मॉडल को पूरे देश में भी दोहराया जा सकता है, जहां आयुर्वेद, युनानी, पारंपरिक चिकित्सा के सिद्ध रूप और स्वास्थ्य केंद्र बहुत लोकप्रिय हो सकते हैं. हमारी सरकार ने भारत में चिकित्सा उपचार प्राप्त करने के इच्छुक विदेशी यात्रियों और चिकित्सा पर्यटकों के लिए वीजा प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए विशेष वीजा श्रेणी स्थापित करने का निर्णय लिया है

आयुष चिन्ह क्या है ?

भारत में किसी उत्पाद की गुणवत्ता को सत्यापित करने के लिए BSI और ISI चिन्हों का इस्तेमाल जाता है थी उसी तर्ज़ पर आयुष उत्पादों की गुणवत्ता के लिए आयुष चिन्ह बनाया जायेगा साथ ही पीएम मोदी ने कहा कि यह ग्लोबल कंज्यूमर को एक मान्यता प्राप्त और उच्च गुणवत्ता सुनिश्चित आयुष उत्पाद देगा उन्होंने एक आयुष पार्क की स्थापना की भी घोषणा की जहां इसके उत्पादों का निर्माण किया जाएगा. उन्होंने कहा, “यह पार्क भारत में आयुष उत्पादों के निर्माण को एक नई दिशा देगा”

ये भी पढ़ें – वीज़ा क्या होता है इसकी ज़रूरत कब पड़ती है ?

क्या है आयुष पार्क Ayush Park ?

ओषधीय कृषि को बढ़ावा देने के लिए आयुष पार्क का निर्माण किया जाना है देश में हर जगह आयुष उत्पादों के प्रचार प्रसार के लिए आयुष पार्कों का नेटवर्क तैयार किये जाने की तैयारी चल रही है ऐसे प्लांट्स जो आयुष औषधियों का निर्माण करते है उनको आयुष उत्पादों की खेती करने वाले किसानों से सिधे जोड़ा जायेगा जिसके लिए आयुष ई-मार्केट पोर्टल को आधुनिक बनाने का काम जारी है जिससे किसानों की आय भी बढ़ेगी, रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे

कितना है आयुष बिज़नेस Ayush Business

अनुमान है कि भारत में आयुष बिजनस 2020 में 18 अरब डॉलर से बढ़कर 2021 में 20.6 अरब डॉलर तक पहुंच चुका है। अनुमान लगाया जा रहा है कि इस साल यह बिजनस बढ़कर 23.3 अरब डॉलर तक पहुंच जाएगा। आयुष बिजनस में करीब 15 फीसदी की तेजी आने का अनुमान है। अभी आयुष बिजनस में सबसे बड़ा खिलाड़ी डाबर इंडिया है, जिसके पास 80 फीसदी हिस्सेदारी है। वहीं पतंजलि आयुर्वेद के पास करीब 53 फीसदी हिस्सेदारी है

अर्थव्यवस्था कैसे सुधरेगी आयुष वीज़ा से ?

ये एक दूरदर्शी प्लानिंग है मान लीजिये कोई किसी बीमारी के इलाज के लिए भारत आता है आयुष वीज़ा लेकर अपने इलाज के दौरान वो भारत आएगा कहीं किसी होटल में रुकेगा इलाज के बाद कहीं ना कहीं घुमने के लिए जायेगा कहीं कुछ खायेगा कुछ खरीदेगा ऐसे में ओवरआल व्यापार बढेगा और देश की अर्थव्यवस्था पर भी इसका सकारात्मक असर पड़ेगा

अधिक जानकारी के लिए आप आयुष मंत्रालय के साईट पर जा सकते हैं https://main.ayush.gov.in/

कैसी लगी आपको हमारी ये जानकारी अगर आपके पास हमारे लिए कोई सुझाव है तो हमें ज़रूर कमेंट करके बताएं !आप अगर लिखना चाहते हैं हमारे ब्लॉग पर तो आपका स्वागत है

हमसे जुड़े : Facebook | Telegram | Instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published.