vishwa-mahila-diwas-kyon-aur-kab-manaya-jata-hai

World Women’s Day 2022 in hindi | Mahila diwas

संयुक्त राष्ट्र महासभा ने साल 1975 में विश्व महिला दिवस के तौर पर मनाने की घोषणा की थी। तब से प्रत्येक वर्ष 8 मार्च के दिन विश्व महिला दिवस World Women’s Dayके रूप में मनाया जाता है। पहले विश्व महिला दिवस की थम थी “सेलिब्रेटिंग द पास्ट प्लानिंग फॉर द फ्यूचर” 

world-women's-day-2022-in-hindi-mahila-diwas
World Womens Day

क्या है इतिहास विश्व महिला दिवस का

दुनिया में जब जब भी किसी ने जनता के ऊपर कोई अत्याचार किया है, तब तब जनता ने उसका अपने विद्रोह के ज़रिये मुकाबला किया है। ऐसा ही एक विद्रोह हुआ था अमेरिका में दरअसल ये एक मज़दूरों का आंदोलन था, जिसमें महिलाएं भी शामिल थीं वो वहां उस वक़्त की सरकार से अपनी कुछ मांगों के लिए लड़ रहीं थीं। ये मज़दूरों की लड़ाई देखते देखते महिलाओं और सरकार के बिच की लड़ाई बन गई।

महिलाएं चाहती थी की, उनको भी अपने पुरुष साथियों की बराबर वेतन मिले उनके काम करने के कुल घंटों में कुछ कमी की जाये, साथ ही साथ उनको मतदान का भी हक़ मिले। ये विद्रोह हुआ था साल 1908 में और इसमें लगभग 15 हज़ार महिलाओं ने हिस्सा लिया था, इस विद्रोह ने दुनिया का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया।

साल 1909 में फिर अमेरिका की सोशलिष्ट पार्टी ऑफ़ अमेरिका ने इस दिन को महिला दिवस World Women’s Day  के तौर पर मान्यता दे दी थी।

किसने प्रस्ताव दिया विश्व महिला दिवस का

साल 1910 में डेनमार्क की राजधानी कोपेनहेगेन में क्लारा जेटकिन ने एक विश्वस्तरीय महिला अधिवेशन जहाँ दुनिया के 17 देशों से लगभग 100 महिलाएं आई हुई थीं हिस्सा लेने उनके सामने ये प्रस्ताव रखा की, किसी एक दिन को विश्व महिला दिवस World Women’s Day के रूप में मनाया जाये इस प्रस्ताव का सभी महिला सदस्यों ने स्वागत किया।

पहला विश्व महिला दिवस कब मनाया गया था

साल 1911 में पहला विश्व महिला दिवस मनाया गया था, उस समय ये सारी दुनिया में नहीं मनाया गया था ये बस डेनमार्क ऑस्ट्रिया स्वीट्ज़रलैंड और जर्मनी में मनाया गया ।

8 मार्च को विश्व महिला दिवस मनाये जाने की वजह क्या है

भगवान की सबसे खूबसूरत और प्यारी सौगात माँ होती है जोकि, एक महिला ही होती है महिला सिर्फ माँ ही नहीं वो कई रूपों में हमारे लिए वरदान है। जैसे बहन भाभी दोस्त जीवन संगिनी आदि सभी रूपों में वो हमेशा सच्ची और ताकत देने वाली साबित होती हैं, हर धर्म में महिला का सबसे ऊँचा स्थान होता है इसलिए कोई एक दिन नहीं होना चाहिए जिसमें हम महिलाओं के लिए कोई दिवस मनाये। हमें चाहिए की हम महिलाओं की हमेशा इज़्ज़त करें उनको बराबरी का मौका दें जिससे वो अपनी प्रतिभा और क्षमता से देश और समाज की तरक्की में बराबर की हिस्सेदार बने ऐसा कहा भी जाता है की, जिस देश में महिलाओं का सम्मान होता है वो देश तरक्की करता है।

मगर फिर भी महिलाओं से सम्बंधित सुझाव उनके उत्थान के लिए विश्व महिला दिवस मनाया जाता है, ताकि महिलाओं के अधियकरों के विषय में एक विमर्श सामने आये समाज के, सवाल अब ये पैदा होता है की, 8 मार्च को ही क्यों विश्व महिला दिवस मनाया जाता है?

उसका जवाब ये है की, साल 1917 में रूस में महिलाओं ने बहुत कुछ झेला ना सिर्फ रूस में बल्कि लगभग सारी दुनिया में लोगों के पास सर छुपाने के लिए ना तो घर बचे थे ना ही खाने के लिए कुछ रह गया था। इन सब से तंग आ कर रुस की महिलाओं ने मोर्चा खोल दिया था वहां  के सम्राट निकोलस के खिलाफ ये आंदोलन इतना बड़ा और प्रभावी हुआ की निकोलस को अपनी गद्दी छोड़नी पड़ गई थी। इस आंदोलन को ब्रेड एंड पीस का नाम दिया गया था।

वो दौर था जब रूस में जूलियन कैलेंडर का इस्तेमाल किया जाता था और महिलाओं ने जब ये आंदोलन शुरू किया था वो तारीख थी 23 फरवरी और ग्रेगेरियन कैलेंडर में वो तारीख थी 8 मार्च इसलिए हर साल 8 मार्च के दिन पूरी दुनिया में विश्व महिला दिवस मनाया जाता है 

क्या उद्देश्य है विश्व महिला दिवस मनाने का

विश्व महिला दिवस मनाने का उद्देश्य है की, महिलाओं के अधिकारों के बारे में चर्चा हो और उनको उसके लिए जागरूक किया जा सके साथ ही महिलाओं और पुरुषों के बीच समानता की भावना को बल दिया जा सके।

आज के समय में महिलाएं हर उस क्षेत्र में अपनी उपस्तिथि दर्ज करवा रही हैं, जहाँ सदियों से पुरुष वर्ग का वर्चसव रहा है भारतीय महिलाओं में शिक्षा का स्तर भी सुधरा है वो पहले से ज़्यादा जागरूक हैं। अपने अधिकारों को लेकर अपने घर की चारदीवारी को छोड़कर वो आज अर्थव्यवस्था में बराबर अपना योगदान दे रहीं हैं। कोई भी क्षेत्र हो आपको महिलाओं की मौजूदगी नज़र आएगी चाहे वो स्कूल में पढ़ाती हुई हो पुलिस में छोटे पद पर हो या कोई बड़ी पुलिस अधिकारी ऑटो चलती महिला भी आपको सड़कों पर मिल जाएगी और आपको किसी फ्लाइट की कप्तान भी महिला मिल जाएगी। ऐसा देखा गया है की, महिलाएं पुरुषों की अपेक्षा किसी भी काम को ज़्यादा अच्छे से और बारीकी से करती हैं।

कैसे मनाया जाता है विश्व महिला दिवस

दुनिया भर में 8 मार्च के दिन विश्व महिला दिवस मनाया जाता है, हर देश हर जगह इस दिन को बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है लोग एक अपनी महिला मित्रों को विशेष मैसेज भेजते है। ऑफिसों में लोग महिला कर्मचारियों को तोहफे देते हैं इसी तरह NGO जो महिलाओं के लिए काम करते हैं, वो अपने स्तर पर विशेष कार्यक्रम आयोजित करते हैं जिसमें महिलाओं का सम्मान किया जाता है।

कई राज्य सरकारें और जिला प्रशासन भी विशेष कार्यक्रम आयोजित करते हैं जिसमें उन महिलाओं को सम्मानित किया जाता है। जिन्होंने अपने अपने क्षेत्र में उल्लेखनीय काम किया हो साथ  ही कई जगहों पर साइकिल रैलियों का भी आयोजन किया जाता है,

इसके साथ ही केंद्र सरकार की महिला और बाल विकास मंत्रालय द्वारा नारी शक्ति पुरस्कार भी दिया जाता है, ये विशेष पुरस्कार नारी संगठनों समूहों व्यक्तियों गैर सरकारी संगठनों को दिया जाता है। उनके उन कार्यों के लिए जिसमें उन्होंने महिलाओं के लिए कार्य किया हो और उनके प्रयासों से महिलाओं के जीवन में नई शुरुवात हुई हो और उन्हें सशक्त बनाने में मदद मिली हो।

भारतीय मूल की ब्रिटिश जासूस  नूर इनायत खान की कहानी भी आपको पढ़नी चाहिए जिसने विदेशी भूमि पर अपने फर्ज को अंजाम दिया और भारत का नाम रौशन किया।

कैसी लगी आपको हमारी ये जानकारी अगर आपके पास हमारे लिए कोई सुझाव है तो हमें ज़रूर कमेंट करके बताएं !आप अगर लिखना चाहते हैं हमारे ब्लॉग पर तो आपका स्वागत है

हमसे जुड़े : Facebook | Telegram | Instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published.