cbcd ka full form kya hai kya hai

CBDC | central bank digital currency kya hai

आज कल बहुत बातें होती है Crypytocurrency की वहीँ आपने सुना होगा CBDC की भी चर्चा शुरू हो गई है आज हम इस आर्टिकल में जानेगे क्या है सीबीसीडी क्या होता है CBDC का फुल फॉर्म होता है Central Bank Digital Currency ये किसी देश द्वारा जारी एक डिजिटल करेंसी होती है जिसका नियंत्रण उस देश के पास होता है जिसने इसे जारी किया हुआ होता है इसका इस्तेमाल ऑनलाइन ट्रांसेक्शन के तौर पर किया जा सकता है और ज़रूरत पड़ने पार इसको देश में प्रचलित मुद्रा में भी बदला जा सकता है

cbdc central bank digital cureencykya hai

क्या है Central Bank Digital Currency , CBDC

जैसे – जैसे हम डिजिटल दुनिया में परवश कर रहे हैं हर चीज़ डिजिटल होती जा रही है अब बारी है डिजिटल करेंसी की हालांकि इसकी शुरुवात पहले ही हो चुकी है Crypytocurrency के तौर पर मगर ये किसी देश की आधिकारिक मुद्रा नहीं है

जहाँ तक बात है CBDC , Central Bank Digital Currency की तो किसी भी देश की केंद्रीय बैंक बैंक द्वारा जारी की जाती है जिसपर उस देश का पूरा नियंत्रण होता है भारत में भी इस तरह की डिजिटल करेंसी जारी करने की बात चल रही है जिसका पूरा नियत्रण भारत के Reserve Bank पास होगा

इस डिजिटल मुद्रा की सबसे बड़ी खासियत ये होती है की इसको ज़रूरत के हिसाब से कभी भी उस देश की मुद्रा में बदला जा सकता है जिस देश ने इसे जारी किया हो भारत के लिए अगर बात की जाए तो ये भारत की डिजिटल करेंसी को कभी भी भारत में चलन में जो मुद्रा है उसमें बदला जा सकेगा

कब लांच होगा CBDC

1 फरवरी 2022 के दिन वित्त मंत्री निर्मला सीता रमन ने केंद्रीय बजट संसद में पेश किया जिमसे उन्होंने ये जानकारी दी की RBI अगले वित्त वर्ष में CBDC लांच करेगा दुनिया भर में डिजिटल करेंसी अपने पेअर पसार रही है उसको देखते हुए भारत सरकार ने भी निर्णय लिया है अपनी सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी लांच करने का

कितने प्रकार की होती है Central Bank Digital Currency , CBDC

आज तक हमने देखा 2000 के 500 के 200 के करेंसी नोट और भी सिक्कों और नोटों में भारतीय रिज़र्व बैंक जो करेंसी जारी करता है मगर अब बदलते ज़माने के साथ डिजिटल करेंसी भी आ गई है जिसे किसी देश की केंद्रीय बैंक जारी करती है ये दो प्रकार की होती है

  1. Retail Digital Currency
  2. Wholesale Digital Currency

Retail Digital Currency 

बैंक अपने देश की करेंसी जारी करता है वो सिक्कों और नोटों में हो सकती है उसकी उसका इस्तेमाल एक तरह का ही होता है मतलब जैसा इस्तेमाल एक सामान्य इंसान करता है वैसा ही बैंक और अन्य वित्तीय संस्थाएं करती हैं मगर CBDC के साथ ऐसा नहीं होता है उसको अगर कोई सामान्य इंसान उपयोग करता है है तो उसको मिलेगी Retail Digital Currency जिसका इस्तेमाल वो Online Transections कोई वस्तु या सेवा की खरीदी के लिए कर सकता है

Wholesale Digital Currency 

जैसा की हम जान गए हैं की Central Bank Digital Currency , CBDC क्या है और हम ये भी समझ चुके हैं की ये 2 प्रकार की होती है Wholesale Digital Currency का इस्तेमाल रिटेल से बिलकुल अलग है इसका इस्तेमाल सिर्फ वित्तीय संस्थाएं कर सकती है ये आम इंसान के उपयोग के लिए नहीं होता

क्या फ़र्क़ है Central Bank Digital Currency और Crypytocurrency में

हालांकि Central Bank Digital Currency और Crypytocurrency दोनों ही डिजिटल करेंसी हैं मगर इनमें कुछ अंतर है जो सबसे बड़ा फ़र्क़ है दोनों में वो ये है की Crypytocurrency एक ऐसी मुद्रा है जिसपर दुनिया की किसी भी सरकार का कोई नियंत्रण नहीं है ये बात है की इसे कई देशों ने मान्यता दे दी है मगर इसपर उनका नियत्रण नहीं होता है जबकि CBDC यानी Central Bank Digital Currency किसी देश के केंद्रीय बैंक द्वारा जारी की जाने वाली डिजिटल करेंसी होती है जिसका जारी करने वाले देश पर पूरा का पूरा नियंत्रण होता है और ये उस देश की बैलेंस शीट में भी दिखाई जाती है

जो ख़ास फ़र्क़ है दोनों में वो ये है की Central Bank Digital Currency में कोई उतार चढाव नहीं आता क्योंकि उसका नियंत्रण केंद्रीय बैंक के पास होता है उसको वो देश वैसे ही देखता है जैसे वो अपने देश की सामान्य करेन्सी को देखता है जबकि Crypytocurrency में इसके उलट कभी भी उतार चढाव देखने को मिल जाते हैं क्योंकि ये किसी बैंक या देश के द्वारा नियंत्रित नहीं होती

क्या उपयोग है Central Bank Digital Currency

जैसा की देखने में आ रहा है की अब अधिकतर लोग Online Transection को अपनी रोज़मर्रा की ज़िन्दगी में लाए रहे हैं इंटरनेट की बेहतर सुविधा और घर बैठे सारा काम हो जाने की वजह से ये काफी प्रचलन में आ रहा है उसको देखते हुए बहुत से देश अपनी डिजिटल करेंसी लेन की सोच रहे हैं उनमें हमारा देश भारत भी है आइये देख लेते हैं क्या उपयोग हो सकते हैं Digital Currency के

  • ऑनलाइन शॉपिंग Online Shopping के लिए
  • पैसे भेजने और प्राप्त करने के लिए Online Fund Transfer
  • सुविधाओं एवं सेवाओं के उपयोग के लिए
क्या फायदे हैं Benifit of Central Bank Digital Currency

कहते हैं न एक बात की आवश्यकता ही अविष्कार की जननी होती है ये Central Bank Digital Currency पर भी लागू होती है वैसे तो ऑनलाइन ट्रांसेक्शन बहुत पहले से शुरू हो चूका है मगर जब से ये Covid-19 महामारी ने अपने पैर दुनिया में फैलाये इसका चलन तेज़ी से बढ़ गया और फिर Crypytocurrency जैसे अन्य डिजिटल करेंसी के प्रति लोगों का झुकाव भी बढ़ रहा है जिसको देखते हुए दुनिया भर के देशों ने अपनी अपनी डिजिटल करेंसी के निर्माण के बारे में सोचना शुरू कर दिया इसके कुछ फायदे हैं आइये देख लेते हैं क्यों बढ़ रहा है डिजिटल करेंसी की तरफ लोगों का झुकाव

  • सुरक्षित और सुविधाजनक
  • कहीं से भी इसका उपयोग
  • बैंक जाने की ज़रूरत नहीं
क्या नुक्सान हो सकते हैं सेन्ट्रल बैंक डिजिटल करेंसी के Disadvantage of Central Bank Digital Currency

अब जहाँ कुछ फायदे होते हैं वहां कुछ नुक्सान भी हो सकते हैं ये नकारात्मक बात नहीं मगर फिर भी इन पर ध्यान देना ज़रूरी है तो आइये देख लेते हैं की क्या नुक्सान हो सकते हैं सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी के

  • ऑनलाइन होने की वजह से हैककर्स का खतरा
  • गोपनीयता का खतरा बढ़ जायेगा
Reserve Bank of India  कब जारी करेगा Central Bank Digital Currency

अभी भारत सरकार सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी को जारी करने की निति बना रही है जो संसद में पास होगा उसके बाद Reserve Bank of India इसको जारी करेगा डिजिटल करेंसी के बढ़ते चलन को देखते हुए भारत सरकार ने ये फैसला किया है क्यों की हमारे देश में Crypytocurrency को मान्यता नहीं है और इसका इस्तेमाल प्रतिबंधित है मगर डिजिटल करेंसी के फायदे को देखते हुए बहुत जल्द भारत में भी डिजिटल करेंसी देखने को मिल सकती है

 

क्या आप जानते हैं 

SBI का कवच लोन क्या है 

पर्सनल लोन क्या होता है कैसे और कहाँ से लें 

 

 

 

कैसी लगी आपको हमारी ये जानकारी अगर आपके पास हमारे लिए कोई सुझाव है तो हमें ज़रूर कमेंट करके बताएं !
आप अगर लिखना चाहते हैं हमारे ब्लॉग पर तो आपका स्वागत है

हमसे जुड़े : Facebook | Telegram | Instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published.